अभिनंदन! अभिनंदन!


भाजपा राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) नियुक्त हुए बीएल संतोष

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने 14 जुलाई, 2019 को पार्टी के राष्ट्रीय सह महामंत्री (संगठन) श्री बी.एल. संतोष को राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) नियुक्त किया। इससे एक दिन पूर्व लगभग 13 वर्षों तक राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) की जिम्मेदारी निभाने वाले श्री रामलाल राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) में वापस चले गए और उन्हें संघ के ‘अखिल भारतीय सह-सम्पर्क प्रमुख’ का दायित्व सौंपा गया।
भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) श्री रामलाल ने एक ट्वीट में कहा –

“श्री बी.एल. संतोष जी को भाजपा द्वारा राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) के रूप में नियुक्त किए जाने पर हार्दिक बधाई। संतोषजी सक्षम, ऊर्जावान और मेहनती हैं। निश्चित रूप से राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) के रूप में उनकी नियुक्ति से पार्टी को नई गति और ऊंचाई मिलेगी। बहुत-बहुत शुभकामनाएँ ”।

श्री बी.एल. संतोष दक्षिण कर्नाटक के चामाराजनगर से हैं, लेकिन उनका जन्म और पालन-पोषण बैंगलोर में हुआ। एक विनम्र पारिवारिक पृष्ठभूमि से आने वाले श्री संतोष अपनी योग्यता और कड़ी मेहनत के बल पर शीर्ष तक पहुंचे हैं।

श्री बी.एल. संतोष रा.स्व.संघ के ‘प्रचारक’ हैं। उनका राजनीतिक क्षेत्र में विशेष रूप से दक्षिण भारत का अनुभव अधिक है और उन्हें प्रमुख विचारकों में से एक माना जाता है। वे चुनाव प्रबंधन और पार्टी के संगठनात्मक दायित्वों को कुशलतापूर्वक निभाने के लिए जाने जाते हैं।

2014 में भाजपा के राष्ट्रीय सह महामंत्री (संगठन) एवं दक्षिणी राज्यों के प्रभारी की जिम्मेदारी संभालने से पहले वे 2006 से आठ साल तक कर्नाटक में पार्टी के महामंत्री (संगठन) रहे।

भाजपा कर्नाटक के महामंत्री (संगठन) रहते हुए श्री संतोष ने तमिलनाडु और केरल में पार्टी को सशक्त करने में भी अपनी भूिमका निभाई। दक्षिण भारत के राज्यों के अलावा उन्होंने कई अन्य राज्यों में भी काम किया, जिनमें उत्तर प्रदेश, गुजरात और उत्तर पूर्वी राज्य शामिल हैं।

साल 1993 से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक बनने के बाद श्री बी.एल. संतोष ने जमीनी स्तर पर संघ में कई जिम्मेदारियां निभाईं, जैसे नगर प्रचारक, जिला प्रचारक, विभाग प्रचारक, शिमोगा में भाजपा के महामंत्री (संगठन) की जिम्मेदारी शामिल हैं।

रा.स्व.संघ में आने से पहले पेशे से एक इंजीनियर श्री संतोष को पढ़ने का शौक है, विशेष रूप से पर्यावरण विज्ञान, राष्ट्रीय सुरक्षा और राजनीतिक सिद्धांत जैसे विषय सदैव उनके पसंदीदा रहे हैं।
श्री बीएल संतोष धाराप्रवाह पांच भाषाएं बोल सकते हैं – अंग्रेजी, हिंदी, कन्नड़, तमिल और तुलु।

श्री रामलाल मेरे जैसे बहुत से लोगों के लिए पितातुल्य: बी एल संतोष

भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) श्री बीएल संतोष ने कहा कि श्री रामलाल उनके जैसे कई लोगों के लिए पिता तुल्य हैं।

श्री बी.एल. संतोष ने नई जिम्मेदारी लेते हुए श्री रामलाल द्वारा सालों तक पार्टी की सेवा को सराहते हुए ट्वीट किया:

  “2006 से रामलालजी के साथ सीखने को 12 साल मिले .. मैं उनके साथ राजनीतिक क्षेत्र में प्रतिनियुक्त था.. शांत, रचनात्मकता, विवरण पर ध्यान देना उनकी पहचान थी। वह मेरे जैसे कई लोगों के लिए पितातुल्य रहे। संघ कार्य पर वापस। आप को शुभकामनाएं। हम आपको याद करेंगे।

श्री रामलाल सघन प्रवास करने और नियमित रूप से संगठनात्मक बैठक लेने के लिए जाने जाते हैं। सार्वजनिक जीवन में उनकी सादगी भरी शैली ने अनेक कार्यकर्ताओं को प्रेरित किया। श्री रामलाल पार्टी के सबसे लंबे समय तक कार्यरत राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) रहे हैं और उनका कार्यकाल पार्टी और संगठन के बीच सहज समन्वय के लिए जाना गया।

उनकी छवि एक अभिभावक वाली रही, उन्होंने प्रत्येक कार्य को एक सहजता से संभाला। पार्टी के प्रत्येक कार्यकर्ता चाहे वह पार्टी के वरिष्ठ सदस्य हों या नवागंतुक, आसानी से उनसे संपर्क कर सकते हैं और अपने विचारों को उनके साथ साझा कर सकते हैं।

राजस्थान के भरतपुर जिले के डीघ में 22 दिसंबर, 1952 को जन्म लेने वाले श्री रामलाल एक विधि स्नातक हैं और 1974 में रा.स्व.संघ में प्रचारक के रूप में शामिल हुए थे। 2000 में बृज, मेरठ और उत्तरांचल के क्षेत्र प्रचारक बनने से पहले उन्होंने संघ में कई अन्य जिम्मेदारियां निभाईं। उन्होंने आपातकाल विरोधी आंदोलन में बाबू जयप्रकाश नारायण के साथ भाग लिया और मेरठ जेल में आठ महीने तक उनके साथ रहे। उनके पिता एक स्वतंत्रता सेनानी थे और यहां तक कि उनका पूरा परिवार समाज के शैक्षिक और सामाजिक कल्याण कार्यों के लिए समर्पित रहा है। श्री रामलाल ने 2006 में भाजपा में प्रवेश किया और उन्हें 2007 में राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) का दायित्व मिला।

श्री रामलाल जो आपातकाल के दिनों से भी पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में सक्रिय थे, 13 जुलाई, 2019 को अपनी मातृ संगठन में वापस आ गए हैं और अब वे संघ के ‘अखिल भारतीय सह संपर्क प्रमुख’ के रूप में कार्य करेंगे।

भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन) के रूप में, उन्होंने तीन भाजपा अध्यक्षों के साथ काम किया: श्री राजनाथ सिंह, श्री नितिन गडकरी और श्री अमित शाह। अब जबकि श्री रामलाल भाजपा से वापिस संघ में जा रहे हैं, वह पार्टी के इतिहास में ऐसे समय में इस पद पर रहें, जब पार्टी अपने चरम पर है। दायित्व बदलने पर श्री रामलाल ने कहा :

  दायित्व परिवर्तन संघ में स्वाभाविक प्रक्रिया है। दायित्व व क्षेत्र कोई भी हो, सभी का एक ही कार्य है भारत माता की सेवा। कुछ अच्छा करने का निमित्त यदि बना तो उसमें आप सभी का स्नेह व सहयोग बड़ा कारण है। आपकी शुभेच्छायें मेरे लिए संबल है।