भाजपा अध्यक्ष का अखंड प्रवास


भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह अपने राष्ट्रव्यापी प्रवास में विभिन्न प्रदेशों में भाजपा पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं, सहयोगी दलों, बौद्धिक वर्ग, पार्टी समर्थकों एवं आमजन से मिल रहे हैं। अपने इस अथक एवं अखंड प्रवास से उन्होंने राजनैतिक सक्रियता का एक नया मानदंड स्थापित किया है। इससे एक ऐसे वातावरण का निर्माण हुआ है जब हर कार्यकर्ता राष्ट्रीय पुनर्निर्माण के व्यापक लक्ष्यों के लिए संगठनात्मक प्रतिबद्धता के साथ कठोर परिश्रम करने के लिए स्वयं को समर्पित करने को तत्पर हुआ है। भुवनेश्वर में संपन्न राष्ट्रीय कार्यकारिणी में अपने अध्यक्षीय संबोधन में अमित शाह ने निरंतर मिलती चुनावी जीत से संभावित आलस्य के निर्माण के प्रति आगाह करते हुए संगठनात्मक विस्तार एवं सुदृढ़ीकरण के लिए ‘परिश्रम की पराकाष्ठा’ करने का आह्वान किया था। उन्होंने न केवल कार्यकर्ताओं का आह्वान किया, बल्कि स्वयं अपने 95–दिवसीय विस्तारक प्रवास एवं 15–दिवसीय विस्तृत प्रवास की घोषणा भी की। नेतृत्व के उच्च मानदण्डों को स्थापित करते हुए उन्होंने अनवरत् कठोर परिश्रम एवं अनुकरणीय राजनैतिक सक्रियता का उदाहरण हर कार्यकर्ता के सामने प्रस्तुत किया है।

भाजपा को जन–जन से अपार समर्थन मिल रहा है और इसकी चुनावी जीत भारतीय राजनीति के पूरे परिदृश्य को परिवर्तित कर रही है। जिस प्रकार का भारी जनसमर्थन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं भाजपा को मिल रहा है उससे पार्टी से जन–जन की जुड़ी आकांक्षाओं का पता चलता है। यह केवल एक नए भारत के निर्माण का अवसर नहीं बल्कि देश के कोने–कोने में पार्टी को सुदृढ़ करने का समय है ताकि पार्टी जनाकांक्षाओं पर खरी उतर सके। भाजपा अध्यक्ष इस बात पर निरंतर जोर देते रहे हैं कि जब पार्टी के पास नरेन्द्र मोदी के रूप में विश्व का सबसे लोकप्रिय नेतृत्व है, तब यही वह समय है जब उसे पंचायत से लेकर पार्लियामेंट तक संगठनात्मक विस्तार एवं सुदृढ़ीकरण करना चाहिए। उनके शब्दों में यह एक ऐतिहासिक अवसर है और हर कार्यकर्ता का यह दायित्व है कि इस अवसर का लाभ पार्टी को प्राप्त हो। पं. दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी वर्ष में जहां अनेक कार्यक्रम हो रहे हैं, उनके नाम पर एक विस्तारक योजना का भी शुभारंभ हुआ है। भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष इस पं. दीनदयाल उपाध्याय विस्तारक योजना का स्वयं नेतृत्व कर रहे हैं तथा बूथ स्तर तक घर–घर जाकर व्यापक जनसंपर्क कर रहे हैं। इसके अलावा वे बूथ समिति सदस्यों के साथ बैठकें, उनके घरों पर भोजन तथा विस्तारकों के साथ चर्चा एवं संवाद कर रहे हैं। अपने विस्तृत प्रवास कार्यक्रम में श्री अमित शाह मंडल स्तर तक के पार्टी पदाधिकारी, विभिन्न विभागों एवं प्रकल्पों एवं पार्टी की गतिविधियों पर व्यापक चर्चा कर रहे हैं। स्थानीय बौद्धिक वर्ग के बीच पार्टी के विचार एवं कार्यक्रमों को रखकर अमित शाह ने बुद्धिजीवियों के साथ संवाद का एक नया दौर शुरू किया है। यह एक बहुत बड़ा व्यापक जनसंपर्क अभियान है, जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वयं ही विभिन्न स्तरों पर लोगों से संवाद एवं संपर्क स्थापित कर बूथ स्तर तक संगठन में नई ऊर्जा का संचार कर रहे हैं।

अपने अनगिनत नेताओं एवं कार्यकर्ताओं के बलिदान एवं साधना के फलस्वरूप आज भाजपा एक राजनैतिक विकल्प के रूप में उभरी है। यह सब पार्टी कार्यकर्ताओं के अटूट निष्ठा के कारण संभव हुआ है, जिन्होंने इस राष्ट्रयज्ञ में अपनी आहुतियां दी। आज यह आवश्यक है कि संगठन का और अधिक विस्तार एवं सुदृढ़ीकरण हो, ताकि यह राष्ट्रीय पुनर्निर्माण का एक प्रभावी साधन बन सके। संगठन के महत्व को समझते हुए भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने अपने अथक प्रयासों एवं अटूट निष्ठा से इसे मजबूती से स्थापित करने के लिए स्वयं को समर्पित किया है। उनके नेतृत्व में जिस प्रकार से सदस्यता अभियान चला और भाजपा विश्व का सबसे बड़ा राजनैतिक दल बना उससे उनकी राजनैतिक इच्छाशक्ति का पता चलता है। प्रशिक्षण अभियान से हर कार्यकर्ता आवश्यक विधाओं से सुसज्जित हुआ है तथा वैचारिक समझ एवं राजनैतिक दृष्टि का उन्नयन हुआ है। अमित शाह के प्रवास का सुबह से लेकर देर रात तक का हर एक मिनट का सदुपयोग संगठन द्वारा किया जा रहा है। उनके अनवरत एवं अथक प्रयासों एवं अखंड प्रवास से वे एक सक्रिय अध्यक्ष के रूप में उभरे हैं जो आने वाले लंबे समय तक भाजपा को पंचायत से पालिर्यामेंट तक स्थापित करने को कृतसंकल्पित है।

              shivshakti@kamalsandesh.org