स्वास्थ्य सुविधा में सहयोग बढ़ाने के लिए भारत और मोरक्को ने सहमति-ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये

स्वास्थ्य सुविधा में सहयोग बढ़ाने के लिए भारत और मोरक्को ने 14 दिसंबर को सहमति-ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये। सहमति-ज्ञापन पर भारत की तरफ से स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री जे.पी.नड्डा और मोरक्को के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. अब्दुलकादिर अमारा ने हस्ताक्षर किये। इस अवसर पर केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आला अधिकारियों सहित मोरक्को का उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल उपस्थित था।

श्री जे.पी.नड्डा ने कहा कि दोनों देशों के बीच मजबूत और समृद्ध पारंपरिक रिश्ते हैं। उन्होंने भारत की बेहतरीन जेनेरिक दवाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि भारत इन दवाओं का 200 से अधिक देशों को निर्यात कर रहा है और हमारे यहां एक मजबूत जन स्वास्थ्य प्रणाली काम करती है। इस प्रणाली की निगरानी राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जरिये की जाती है। श्री नड्डा ने कहा कि दोनों देशों के बीच सहमति-ज्ञापन के दायरे में दोनों देश आपसी सहयोग बढ़ाने में सक्षम होंगे और स्वास्थ्य क्षेत्र में एक-दूसरे का सहयोग करेंगे।

दोनों देशों के बीच सहयोग के मुख्य क्षेत्र इस प्रकार हैं:

-बाल हृदय रोग और कैंसर सहित गैर-संचारी रोग

-औषधि नियमन एवं गुणवत्ता नियंत्रण

-संचारी रोग

-मातृत्व, बाल एवं पूर्व-प्रसव स्वास्थ्य

-बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के आदान-प्रदान के लिए अस्पतालों के बीच सहयोग

-स्वास्थ्य सेवाओं और अस्पतालों के प्रबंधन और प्रशासन में प्रशिक्षण

एक दूसरा सहमति-ज्ञापन जवाहरलाल इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्ट-ग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च और और मराकेश मोहम्मद विश्व विद्यालय अस्पताल के बीच हुआ। इस अवसर पर दोनों देशों के मंत्री मौजूद थे। दोनों देशों के संस्थानों ने टेली-मेडिसन के क्षेत्र में सहयोग पर सहमति व्यक्त की।