जीवन परिचय


भाजपा के नवनिर्वािचत राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा ने पार्टी में विभिन्न स्तरों पर महत्वपूर्ण पदों पर रहते हुए संगठन की सेवा की है। हिमाचल प्रदेश से आने वाले श्री नड्डा का जन्म डॉ. नारायण लाल नड्डा और माता स्वर्गीय श्रीमती कृष्णा नड्डा के घर 2 दिसंबर 1960 को हुआ था। उनका विवाह 11 दिसंबर 1991 को हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में इतिहास की प्रोफेसर डॉ. मल्लिका नड्डा के साथ हुआ। हिमाचल प्रदेश और बिहार में अपने छात्र जीवन के दौरान श्री नड्डा अिखल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के सक्रिय सदस्य रहे और विभिन्न जिम्मेदारियों का निर्वहन करते हुए आज पार्टी के सर्वोच्च स्तर पर पहुंचे हैं।

शुरुआती जीवन

आपातकाल के काले दिनों के दौरान जयप्रकाश नारायण द्वारा शुरू किए गए तत्कालीन संपूर्ण क्रांति आंदोलन का हिस्सा बने। उन्होंने 1975 में छात्र राजनीति में प्रवेश किया। श्री नड्डा जी पटना विश्वविद्यालय में पढ़ाई के दौरान अभािवप के सम्पर्क में आए और सक्रिय छात्र राजनीति का हिस्सा बने।

उन्हें 1977 में अभािवप के उम्मीदवार के रूप में पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ के सचिव के रूप में चुना गया था। इसके साथ ही, वह अभािवप की गतिविधियों में सक्रिय रूप से शामिल होते रहे और कई संगठनात्मक पदों पर रहे। पटना विश्वविद्यालय से स्नातक करने के बाद उन्होंने हिमाचल विश्वविद्यालय से अपनी विधि स्नातक एलएलबी की डिग्री हािसल की। 1987 में उन्होंने राष्ट्रीय संघर्ष मोर्चा का गठन करके सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी के खिलाफ सरकार विरोधी अभियान का आयोजन किया, जिसके लिए उन्हें 45 दिनों के लिए नजरबंद किया गया।

वर्ष 1989 में आयोजित लोकसभा चुनावों के दौरान उन्हें भारतीय जनता युवा मोर्चा के चुनाव प्रभारी के रूप में एक बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई थी, वह जब सिर्फ 29 साल के थे। इसके सिर्फ तीन साल बाद 1991 में उन्हें 31 साल की छोटी उम्र में भारतीय जनता युवा मोर्चा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया। श्री नड्डा ने अपने गृह राज्य हिमाचल प्रदेश से तीन बार विधानसभा चुनाव लड़ा और तीनों बार विजयी रहे। वह हिमाचल प्रदेश में कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। उन्होंने भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और भाजपा संसदीय बोर्ड के सदस्य सचिव की जिम्मेदारियों को भी निभाया। उन्होंने पहली मोदी सरकार में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री का पद संभाला था।

राजनीतिक जीवन

1993-98, 1998-2003 और 2007-2012: सदस्य, हिमाचल प्रदेश विधान सभा (तीन बार)।
1994-98: सदन के नेता, भारतीय जनता पार्टी, हिमाचल प्रदेश विधान सभा।
1998-2003: कैबिनेट मंत्री, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण और संसदीय कार्य, हिमाचल प्रदेश सरकार।
2008-2010: कैबिनेट मंत्री, वन, पर्यावरण, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और संसदीय कार्य, हिमाचल प्रदेश सरकार।
मई 2010-नवंबर 2014: भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव।
अप्रैल 2012: राज्यसभा के लिए चुने गए।
सितंबर 2014: सदस्य, भाजपा संसदीय बोर्ड।
सितंबर 2014- नवंबर 2014: अध्यक्ष, मानव संसाधन विकास समिति।
09 नवंबर 2014-30 मई 2019: केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री।
अप्रैल 2018: राज्यसभा के लिए फिर से निर्वाचित (दूसरा कार्यकाल)
17 जून, 2019-20 जनवरी, 2020: भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष िनयुक्त हुए।
20 जनवरी, 2020: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में निर्विरोध निर्वाचित हुए।