आशा एवं विश्वास के पर्याय नरेन्द्र मोदी


प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 7 अक्तूबर, 2020 को सरकार के प्रमुख के रूप में कार्य करते हुए 20वें वर्ष में प्रवेश कर लिया। पहली बार 7 अक्तूबर, 2001 को उन्होंने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी, जिसके बाद गुजरात ने विकास के कई कीर्तिमान स्थापित किए। परिणाम यह हुआ कि राज्य की जनता का अटूट एवं अपार विश्वास उन पर बना रहा। 7 अक्तूबर, 2001 से लोकसभा चुनाव 2014 में विशाल बहुमत प्राप्त करने तक श्री नरेन्द्र मोदी लगातार गुजरात के मुख्यमंत्री पद को सुशोभित करते रहे तथा प्रदेश की जनता ने 2002, 2007 एवं 2012 के विधानसभा चुनावों में उन्हें बार-बार भारी बहुमत से विजयी बनाया। जहां एक ओर लोकसभा चुनाव 2014 में पूरे देश ने उन पर भारी भरोसा जताया, वहीं लोकसभा चुनाव 2019 में उन्हें 2014 से भी बड़ा जनादेश देकर देश ने उनके नेतृत्व पर जबरदस्त विश्वास व्यक्त किया। इन वर्षों में देश ने उनके करिश्माई नेतृत्व, अद्भुत गतिशीलता, दूरदर्शी निर्णय, कठोर परिश्रम, निरंतर कार्य एवं अदम्य उत्साह को अनेक सफलताओं एवं अद्भुत उपलब्धियों में परिणत होते हुए देखा है।

एक ओर जहां श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में गुजरात सुशासन एवं विकास का एक चमकता हुआ माॅडल के रूप में उभरा, वहीं दूसरी ओर इसने देश के सामने भविष्योन्मुखी विकास एवं तीव्र प्रगति का एक नया चित्र प्रस्तुत किया। यह वह समय था जब कांग्रेसनीत संप्रग के कुशासन, ‘पॉलिसी पैरेलिसिस’, कमरतोड़ महंगाई, गिरती हुई विकास दर, आए दिन जनता के पैसों की लूट एवं भ्रष्टाचार से देश की जनता त्राहि-त्राहि कर रही थी। ऐसी विपरीत परिस्थितियों में श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में गुजरात आशा की एक किरण बनकर उभरी। पूरे देश की जनता श्री नरेन्द्र मोदी को ऐसे नायक के रूप में देखने लगी, जो न केवल देश को इन विपरीत परिस्थितियों से उबार सकता था, बल्कि सुशासन एवं विकास के नए प्रतिमान गढ़ने की क्षमता रखता था। ऐसे परिदृश्य में जब लोकसभा चुनाव 2014 का परिणाम आया, तब देश की जनता ने तीन दशकों में पहली बार किसी राजनैतिक दल को पूर्ण बहुमत देकर देश में व्यापक परिवर्तन का मार्ग प्रशस्त कर दिया।

भाजपानीत राजग को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारी बहुमत के परिणामस्वरूप देश में ‘परफॉरमेंस’, सुशासन एवं विकास की राजनीति का सूत्रपात हुआ। जैसाकि श्री नरेन्द्र मोदी ने शुरुआत में ही कहा था कि उनकी सरकार गरीब, वंचित, शोषित, महिला, अनु.जाति एवं जनजाति के लिए समर्पित रहेगी, ठीक उसी प्रकार पिछले छह वर्षों में ‘अंत्योदय’ के सिद्धांतों का पालन करते हुए भ्रष्टाचार मुक्त शासन के माध्यम से मोदी सरकार ने देश की सेवा की है। गरीब, वंचित एवं शोषित के जीवन में अभिनव कल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से सकारात्मक परिवर्तन आया है, जिससे न केवल उन्हें राहत मिली है एवं उनका सशक्तिकरण हुआ है बल्कि वे राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया में एक बहुमूल्य घटक बनकर उभरे हैं। पूरा देश उस सर्वांगीण विकास की प्रक्रिया को महसूस कर रहा है तथा वैश्विक मंचों पर भारत की उपलब्धियों को सराहा जा रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सुदृढ़ एवं संकल्पित नेतृत्व में देश ने न केवल दुश्मनों के दांत खट्टे करते हुए अपनी सीमाओं की सुरक्षा की है, बल्कि वैश्विक मंचांे पर भारत का कद अभूतपूर्व ढंग से बढ़ा है।

मोदी सरकार के पहले कार्यकाल की अद्भुत उपलब्धियों को देश की जनता ने लोकसभा चुनाव 2019 में पूर्व से भी बड़ा जनादेश देकर अपना आशीर्वाद दिया है। देश, जिसने श्री नरेन्द्र मोदी के अनेक ऐतिहासिक निर्णयों से भारत में व्यापक परिवर्तन होते हुए देखा, आज ‘आत्मनिर्भर भारत’ के लक्ष्यों को प्राप्त करने को तत्पर है। आज जब श्री नरेन्द्र मोदी सरकार के प्रमुख के रूप में बीसवें वर्ष में प्रवेश कर चुके हैं, पूरा देश उन्हें आशा एवं विश्वास के प्रतीक के रूप मेें देख रहा है जो राष्ट्र को नित नवीन ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए कृतसंकल्पित हैं। उनके करिश्माई, दूरदर्शी एवं सुदृढ़ नेतृत्व में देश अभूतपूर्व ऊंचाइयों को प्राप्त करने के लिए कदम बढ़ा रहा है।

shivshakti@kamalsandesh.org