राष्ट्रपति ट्रंप की यात्रा भारत-अमेरिका संबंधों में नया अध्याय: नरेन्द्र मोदी


भारत और अमेरिका नैसर्गिक सहयोगी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति श्री डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा को भारत और अमेरिका के संबंधों में नया अध्याय करार देते हुए 24 फरवरी को कहा कि यह दोनों देशों के लोगों की प्रगति और समृद्धि का एक नया दस्तावेज बनेगा।

अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में श्री ट्रंप और उनकी पत्नी श्रीमती मेलानिया के स्वागत में आयोजित ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा, ‘‘भारत-अमेरिका के संबंध अब केवल गठजोड़ तक ही नहीं हैं। यह इससे काफी आगे और करीबी रिश्ते हैं।’’

श्री मोदी ने कहा, ‘‘21वीं सदी में, नए गठबंधन, नयी प्रतिस्पर्धाएं, नयी चुनौतियां और नए अवसर बदलाव की नींव रख रहे हैं। हम दीर्घकालिक सोच से प्रेरित हैं, अल्पकालिक विचार से नहीं। हमारे द्विपक्षीय संबंध और आगे बढ़ेंगे, हमारे आर्थिक गठजोड़ बेहतर होंगे और हमारा डिजिटल सहयोग व्यापक होगा।’’ उन्होंने कहा कि भारत और अमेरिका के संबंध और सहयोग की, 21वीं सदी के विश्व की दिशा तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका होगी।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘मेरा स्पष्ट मत है कि भारत और अमेरिका नैसर्गिक सहयोगी हैं। हम सिर्फ हिन्द प्रशांत क्षेत्र में ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में शांति, प्रगति और सुरक्षा में एक प्रभावी योगदान दे सकते हैं।”

दोनों देशों के मजबूत संबंधों का जिक्र करते हुए श्री मोदी ने कहा कि आज जो देश भारत का सबसे बड़ा कारोबारी सहयोगी है, वह है अमेरिका। आज भारत की सेनाएं सबसे ज्यादा युद्ध अभ्यास अमेरिका के साथ कर रही हैं। भारत का सबसे व्यापक अनुसंधान एवं विकास गठजोड़ अमेरिका के साथ है।

उन्होंने कहा कि और इसलिए वह मानते हैं कि राष्ट्रपति ट्रंप का इस दशक की शुरुआत में ही भारत आना, एक बहुत बड़ा अवसर है। श्री मोदी ने कहा, ‘‘अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा भारत और अमेरिका के संबंधों का नया अध्याय है, एक ऐसा अध्याय, जो अमेरिका और भारत के लोगों की प्रगति और समृद्धि का एक नया दस्तावेज बनेगा।’

उन्होंने कहा कि आज 130 करोड़ भारतवासी मिलकर न्यू इंडिया का निर्माण कर रहे हैं। हमारी युवा शक्ति आकांक्षाओं से भरी हुई है। बड़े लक्ष्य रखना, उन्हें प्राप्त करना, आज न्यू इंडिया की पहचान बन रहा है।

केन्द्र सरकार के कार्यों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा

कि आज भारत में दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम ही नहीं है, बल्कि दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना भी चल रही है। भारत में दुनिया का सबसे बड़ा सोलर पार्क ही नहीं बन रहा, बल्कि दुनिया का सबसे बड़ा स्वच्छता कार्यक्रम भी चल रहा है।

उन्होंने कहा कि भारत एक साथ सबसे ज्यादा उपग्रह भेजने का विश्व रिकार्ड ही नहीं बना रहा बल्कि सबसे तेज वित्तीय समावेशन का भी विश्व रिकॉर्ड बना रहा है। श्री मोदी ने कहा कि दोनों देश साझी उद्यमिता और नवोन्मेष के भाव, साझे अवसर एवं चुनौतियों और साझी उम्मीदों एवं आकांक्षाओं को लेकर आगे बढ़ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि दोनों देशों के लोगों की सबसे बड़ी ताकत आपसी विश्वास है। उन्होंने एक पुरानी कहावत को उद्धृत करते हुए कहा कि मित्रता वहीं होती है, जहां विश्वास अटूट हो। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में भारत और अमेरिका के बीच विश्वास और मजबूत हुआ है और ऐतिहासिक ऊंचाइयों तक पहुंचा है। श्री मोदी ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में ट्रंप प्रशासन के कार्यों की सराहना की।
उन्होंने कहा कि आज मोटेरा स्टेडियम में एक नया इतिहास बन रहा है, आज हम इतिहास को दोहराते हुए भी देख रहे हैं। श्री मोदी ने कहा, “एकता और विविधता भारत और अमेरिका के बीच मजबूत रिश्ते का आधार है। एक मुक्त भूमि का देश है, तो दूसरा पूरे विश्व को एक परिवार मानता है।” प्रधानमंत्री ने कहा कि एक को स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी पर गर्व है तो दूसरे को, दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा- सरदार पटेल की स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पर।

उन्होंने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा भारत और अमेरिका के संबंधों का नया अध्याय है, एक ऐसा अध्याय, जो अमेरिका और भारत के लोगों की प्रगति और समृद्धि का एक नया दस्तावेज बनेगा।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा, ‘‘इस कार्यक्रम का नाम ‘नमस्ते ट्रंप’ है और नमस्ते का मतलब भी बहुत गहरा है। यह दुनिया की प्राचीनतम भाषाओं में से एक, संस्कृत का शब्द है। इसका भाव है कि सिर्फ व्यक्ति को ही नहीं, उसके भीतर व्याप्त अध्यात्म को भी नमन।”
श्री मोदी ने कहा कि प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप का यहां होना सम्मान की बात है। उन्होंने कहा, ‘‘स्वास्थ्य और खुशहाल अमेरिका के लिए आपने जो किया है, उसके अच्छे परिणाम मिल रहे हैं। समाज में बच्चों के लिए आप जो कर रही हैं, वह प्रशंसनीय है।” मोटेरा स्टेडियम में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा ‘‘आप कल्पना कर सकते हैं कि वह (ट्रंप) अमेरिका से सीधे यहां पहुंचे हैं, इतनी लंबी यात्रा के बाद भी राष्ट्रपति ट्रम्प और उनका परिवार सीधे साबरमती आश्रम पहुंचा और उसके बाद यहां आया।’’ श्री मोदी ने समारोह में मौजूद ट्रंप की पुत्री श्रीमती इवांका, दामाद श्री जेरेड कुश्नर का भी स्वागत किया।

डोनाल्ड ट्रंप, मेलानिया राजघाट गए, बापू को पुष्पांजलि अर्पित की

अमेरिकी राष्ट्रपति श्री डोनाल्ड ट्रंप और उनकी पत्नी श्रीमती मेलानिया ने 25 फरवरी को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के समाधि स्थल राजघाट गए और पुष्पांजलि अर्पित की। राष्ट्रपति श्री ट्रंप ने राजघाट में आगंतुक पुस्तिका में संदेश भी लिखा। राजघाट के परिसर में ट्रंप ने एक पौधा भी लगाया। वहां उन्हें महात्मा गांधी की एक प्रतिमा भी भेंट की गई। राजघाट पर राष्ट्रपति श्री ट्रंप के साथ केंद्रीय मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी मौजूद थे।

भारत और अमेरिका के बीच 3 अरब डॉलर का रक्षा समझौता

भारत और अमेरिका ने 25 फरवरी को 3 अरब डालर का रक्षा समझौता किया तथा तीन समझौता पत्रों पर हस्ताक्षर किये जिसमें से एक समझौता ऊर्जा क्षेत्र से संबंधित है। इन समझौते में अमेरिका से 24 एमएच-60 रोमियो हेलिकॉप्टर और 6 एच 64ई अपाचे हेलिकॉप्टर भारत लेगा। अमेरिकी राष्ट्रपति श्री डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के साथ दोनों देशों के प्रतिनिधिमंडल के बीच हैदराबाद हाउस में हुई बातचीत में इस रक्षा समझौते पर सहमति बनी।

24 एमएच-60 रोमियो हेलीकॉप्टर से भारतीय नौसेना की ताकत में वृद्धि होगी। भारतीय नौसेना इस तरह के मल्टीरोल हेलीकॉप्टर की मांग बहुत पहले से कर रही थी। 6 एएच 64ई अपाचे हेलीकॉप्टर से भारतीय वायुसेना की ताकत में और भी वृद्धि होगी। एएच 64 ई अपाचे विश्व के अत्याधुनिक
बहु-उपयोगी युद्धक हेलीकॉप्टरों में से एक है।