‘लक्षद्वीप के रिहायशी द्वीपों में ढांचागत विकास पर जोर दिया जाएगा’


भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर श्री अमित शाह 16 मई को केंद्र शासित प्रदेश लक्षद्वीप की अपनी पहली यात्रा पर पहुंचे। यहां उनका तीन दिवसीय प्रवास रहा। श्री शाह एंडरोथ द्वीप पर दो मछुआरों के घर गए। इन दो घरों में उन्होंने लगभग एक घंटे का समय बिताया और मछुआरों का हालचाल पूछा। उन्होंने मछुआरों से उनकी समस्याओं और जरूरतों के बारे में पूछा। श्री शाह ने 42 साल के अब्दुल खादेर के घर पर नाश्ते में इडली और डोसा खाया। वह एक अन्य मछुआरे अब्दुल रहमान के घर भी गए। उन्होंने 76 साल की लोक गायिका पू (फूल) से भी मुलाकात की। गायिका वृद्धावस्था की बीमारियों के चलते बिस्तर पर हैं। श्री शाह ने गायिका की बेटी से उनकी सेहत के बारे में बात की।

भाजपा अध्यक्ष से मिलने आए कुछ छात्रों ने कहा कि उन्हें द्वीप पर बेहतर शैक्षणिक एवं चिकित्सीय सुविधाएं चाहिए। इस दौरे का उद्देश्य केंद्रशासित प्रदेश में पार्टी की मौजूदगी को प्रसार देना है। यहां लोकसभा की एक सीट है। अपनी चिकित्सीय एवं शैक्षणिक जरूरतों को पूरा करने के लिए लक्षद्वीप कोच्चि पर निर्भर करता है। इस प्रदेश में दस बसे हुए और 17 निर्जन द्वीप हैं।

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नवंबर में लक्षद्वीप की यात्रा पर जाएंगे। उन्होंने कहा कि कारावत्ती को केंद्र की स्मार्ट सिटी योजना में शामिल किया जाएगा और लक्षद्वीप के रिहायशी द्वीपों में ढांचागत विकास पर जोर दिया जाएगा।

श्री शाह ने कहा कि दो साल के भीतर सभी दस रिहायशी द्वीपों को पेयजल उपलब्ध कराने के लिए कदम उठाए जाएंगे जिनमें अगाती, अमिनी, अंद्रोथ, बित्रा, कदामथ, कालपेनी, कारावत्ती, किल्तान, मिनिकाय और चेतलात शामिल हैं। श्री शाह ने यहां एक सभा में कहा, ‘प्रधानमंत्री नवंबर के अंत में कारावत्ती द्वीप की यात्रा पर आएंगे और वे पूरा दिन यहां रहेंगे। उन्होंने कहा कि वह दिल्ली लौटने के बाद लक्षद्वीप के दस द्वीपों के लिए एक परियोजना तैयार करेंगे। और यहां अधिक मालवाहक पोत, कोल्ड स्टोरेज तथा 4 जी कनेक्टिविटी जैसी सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। उन्होंने यहां भाजपा लक्षद्वीप राज्य समिति के सदस्यों के साथ भी बातचीत की।