मार्च, 2019 में थोक महंगाई दर 3.18 प्रतिशत रही


मासिक थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्फीति की वार्षिक दर मार्च, 2019 के दौरान 3.18 प्रतिशत रही, जबकि इससे पिछले महीने यह 2.93 प्रतिशत थी। वहीं, पिछले वर्ष के इसी महीने में यह 2.74 प्रतिशत रही थी।

‘अखाद्य पदार्थों’ के समूह का सूचकांक पिछले महीने के 126.8 अंक (अनंतिम) से 2.6 प्रतिशत घटकर मार्च, 2019 में 123.5 अंक (अनंतिम) हो गया। ऐसा औद्योगिक लकड़ी (16%), कच्चा रेशम (7%), सूर्यमुखी (4%), सरसों बीज (3%), करडी बीज (2%) तथा सोयाबीन, फूल, नारियल व नारियल रेशा (1% प्रत्येक) की कीमतों में कमी के कारण हुआ।

‘खनिज’ समूह का सूचकांक पिछले महीने के 139.3 अंक (अनंतिम) से 1.9 प्रतिशत घटकर 136.3 अंक (अनंतिम) हो गया। ऐसा मैंगनीज और लौह अयस्क (8% प्रत्येक), सिलिमेनाइट (7%), चूना पत्थर और क्रोमाइट (2% प्रत्येक) तथा शीशा और जस्ता सांद्र (1% प्रत्येक), की कीमतों में कमी आने के कारण हुआ। हालांकि गारनेट (12%) और सांद्र तांबा (1%) की कीमतों में बढ़ोतरी दर्ज की गई।
‘खाद्य उत्पादों के निर्माण’ का सूचकांक पिछले महीने के 128.7 अंक (अनंतिम) से 0.5 प्रतिशत घटकर 128.5 अंक (अनंतिम) हो गया। ऐसा मेक्रोनी, नूडल्स और इसी तरह के उत्पाद (5%), नारियल तेल (4%), मछली प्रसंस्करण तथा राइस ब्रान ऑयल (3% प्रत्येक), फल व सब्जी प्रसंस्करण और पाम ऑयल (2% प्रत्येक) तथा कपास बीज तेल, सूजी, सोयाबीन तेल, बेसन, भैंसे का मांस (ताजा/ फ्रोजन), मसाले, नमक, वनस्पति, सरसो तेल, सूर्यमुखी तेल, कोको, चॉकलेट और चीनी कन्फैक्शनरी, घी और मैदा (प्रत्येक 1-1%) के मूल्य में कमी आने के कारण हुआ।

‘खाद्य उत्पाद’ समूह का सूचकांक पिछले महीने के 143.8 अंक (अनंतिम) से 0.9 प्रतिशत बढ़कर 145.1 अंक (अनंतिम) हो गया। ऐसा मटर/चावली (7%), फल और सब्जियां (6%), मक्का व ज्वार (3% प्रत्येक), बाजरा (2%) और मसूर (1%) के मूल्य बढ़ने के कारण हुआ। समुद्री मछली (6%), अंडा (5%), चना (3%), मांस, उड़द और मसाले व इलाइची (1% प्रत्येक) के मूल्यों में कमी दर्ज की गई।
ईंधन एवं बिजली (भारांक 13.15 प्रतिशत) समूह का सूचकांक पिछले महीने के 101.0 अंक (अनंतिम) से 2.3 प्रतिशत बढ़कर 103.3 अंक (अनंतिम) हो गया। ‘खनिज तेल’ समूह का सूचकांक पिछले महीने के 91.3 अंक (अनंतिम) से 4.1 प्रतिशत बढ़कर 95.0 अंक (अनंतिम) हो गया। ऐसा एटीएफ, फर्नेस ऑयल (9%), नैफ्था (9%), एलपीजी (6%), एचएसडी (2%), पेट्रोलियम कोक (3%) पेट्रोल (4%), केरोसिन (5%) और बिटुमिन (1%) के दाम बढ़ने के कारण हुआ।