‘केरल में सच्चा स्वराज तब आयेगा, जब केरल की जनता को एलडीएफ और यूडीएफ से निजात मिलेगी’


भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने 2 जून को कल्लूर में केरल के चुने गए भाजपा जन-प्रतिनिधियों की एक बैठक को संबोधित किया और उनसे राज्य में भाजपा की मजबूत नींव डालने की अपील की। इस बैठक में स्थानीय निकाय से लेकर देश की संसद में केरल की जनता का प्रतिनिधित्व करने वाले भारतीय जनता पार्टी के चुने हुए 1200 से अधिक जन-प्रतिनिधि शामिल हुए। इस अवसर पर भाजपा अध्यक्ष ने केरल भाजपा के इनिशिएटिव जल स्वराज वेबसाईट को भी लॉन्च किया। विदित हो कि श्री शाह देश के सभी राज्यों में कुल 110 दिनों के अपने विस्तृत प्रवास कार्यक्रम के तहत कल से तीन दिवसीय दौरे पर केरल में हैं। इससे पहले भाजपा अध्यक्ष ने आज पार्टी की केरल इकाई के कोर ग्रुप की मीटिंग में लिया और राज्य में भारतीय जनता पार्टी की गतिविधियों की समीक्षा की। उन्होंने केरल में एनडीए की सहयोगी पार्टियों के प्रतिनिधियों के साथ भी एक बैठक की।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मेरे लिए यह बहुत ही आनंद का विषय है कि आज केरल में भारतीय जनता पार्टी के लगभग 1200 चुने हुए जन-प्रतिनिधि यहां उपस्थित हैं। उन्होंने कहा कि शायद मीडिया और कई लोगों को यह अतिशयोक्ति लगती होगी, लेकिन मैं इन्हीं 1200 जन-प्रतिनिधियों में केरल में भारतीय जनता पार्टी सरकार का बीज देखता हूं। उन्होंने कहा कि आज भारतीय जनता पार्टी केरल में एक मजबूत राजनीतिक विकल्प के रूप में जनता के सामने खड़ी है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से केरल भारतीय जनता पार्टी इकाई पार्टी और पार्टी की विचारधारा के विस्तार के लिए अथक परिश्रम कर रही है। मुझे भरोसा है कि चार साल बाद केरल में भी भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनेगी।

श्री शाह ने कहा कि आज मैंने केरल भाजपा के इनिशिएटिव जल स्वराज वेबसाईट को लॉन्च किया है, लेकिन केरल भाजपा के हर कार्यकर्ता को यह संकल्प लेकर काम करना है कि केरल में सच्चा स्वराज तब आयेगा जब केरल की जनता को एलडीएफ और यूडीएफ से निजात मिलेगी। उन्होंने कहा कि भारतीय जन संघ से भारतीय जनता पार्टी की जो विकास यात्रा है। उसको यदि ध्यान से देखें तो पता चलेगा कि केरल में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता जिस प्रकार से संघर्ष कर रहे हैं, उसी प्रकार के संघर्षों से हर राज्य भाजपा इकाई निखर कर बाहर आई है। उन्होंने कहा कि इसका कारण यह है कि हम सिर्फ सत्ता के लिए काम करने वाली राजनीतिक पार्टी नहीं हैं, बल्कि हम विचारधारा के लिए और देश के उत्थान के लिए काम करने वाली पार्टी हैं।

‘भाजपा महज राजनीितक दल नहीं,
वरन एक वैचारिक आंदोलन है’

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने अपने तीन दिवसीय केरल प्रवास के दूसरे दिन 3 जून को त्रिवेंद्रम, केरल में समाज के विशिष्ट और प्रबुद्ध वर्ग के लोगों की बैठक को संबोधित किया और उनसे भारतीय जनता पार्टी के साथ मन से जुड़ने की अपील की। विदित हो कि श्री शाह देश के सभी राज्यों में कुल 110 दिनों के अपने विस्तृत प्रवास कार्यक्रम के तहत तीन दिवसीय दौरे पर केरल में हैं। इससे पहले भाजपा अध्यक्ष ने महान समाज सुधारक श्री अय्यंकली जी की प्रतिमा पर श्रद्धा-सुमन अर्पित कर अपनी विनम्र श्रद्धांजलि दी। उन्होंने पार्टी के प्रदेश मुख्यालय पदाधिकारियों के साथ एक बैठक की और केरल में पार्टी की गतिविधियों की समीक्षा की। उन्होंने जिला अध्यक्षों और जिला महासचिवों के साथ भी एक बैठक कर विभिन्न विषयों पर चर्चा की।
श्री शाह ने कहा कि सभी पत्रकार एक सवाल बहुत उत्सुकता के साथ हमें पूछते हैं कि 10 सदस्यों से शुरू हुई भारतीय जन संघ आज 11 करोड़ सदस्यों के साथ विश्व की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है, आज भाजपा के देश भर में 1387 विधायक हैं, 14 राज्यों में भाजपा की सरकार है, देश में 330 सांसद हैं और केंद्र में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की पूर्ण बहुमत की सरकार है, इसके बावजूद आपको क्या चाहिए कि आप पूरे देश का दौरा करने के लिए निकले हैं। उन्होंने कहा कि इसका कारण यह है कि देश भर में आज जितनी भी राजनीतिक पार्टियां हैं, उसमें भारतीय जनता पार्टी ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जिसका लक्ष्य सरकार बनाना नहीं है, बल्कि भारत को विश्वगुरु के स्थान पर प्रतिष्ठित करना है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी चुनावी राजनीति में जय और पराजय के लिए काम करने वाली पार्टी नहीं है बल्कि यह एक वैचारिक आंदोलन है। उन्होंने कहा कि इसी कारण देश में जिस-जिस राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार एक बार चुन कर सत्ता में आती है, वहां-वहां जनता बार-बार भाजपा का ही चुनाव करती है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी देश को वैभव के परम शिखर पर ले जाना चाहती है।

श्री शाह ने कहा कि 2014 लोक सभा चुनाव से पहले देश में हर तरफ निराशा का माहौल था। महिलायें असुरक्षित थीं, हमारी सीमाओं पर आये दिन अतिक्रमण होते रहते थे, दुनिया में देश का सम्मान नीचे जा रहा था, बेरोजगारी चरम पर थी, महंगाई आसमान छू रही थी, जीडीपी दर दिन-प्रतिदिन नीचे जा रहा था, सरकार में पॉलिसी पैरालिसिस की सी स्थिति थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की यूपीए सरकार के उस वक्त केंद्र सरकार का हर मंत्री अपने आप को प्रधानमंत्री समझता था और प्रधानमंत्री को तो कोई प्रधानमंत्री समझता ही नहीं था। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार की शासन-व्यवस्था श्री मनमोहन सिंह ने श्री मोदी जी को सौंपी थी, उस को रिपेयर करने में ही तीन साल लग जाने थे, लेकिन प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी इन तीन साल के अंदर देश की स्थिति को बदलने में सफल हुए हैं।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि यूपीए के शासन के समय देश की विकास दर 4.4% थी, इसे 7.1% तक पहुंचाने का काम भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने किया है। उन्होंने कहा कि आज भारत चीन को पछाड़ कर दुनिया की सबसे तेज गति से विकास करने वाली अर्थव्यवस्था बनी है, सेंसेक्स अपने रिकॉर्ड स्तर पर है और भारत का विदेश मुद्रा भंडार अब तक के सर्वोच्च शिखर पर है।

श्री शाह ने कहा कि आजादी के 70 साल बाद भी देश की 60% आबादी के पास बैंक अकाउंट तक नहीं था, प्रधानमंत्री जन-धन योजना के तहत तीन वर्ष में ही देश के लगभग 28.5 करोड़ लोगों के बैंक खाते खोले गए। उन्होंने कहा कि बैंक अकाउंट खोलने के बाद सरकार ने लाभार्थियों की सब्सिडी सीधे उनके बैंक खाते में ट्रांसफर किया, जिससे सरकार ने हजारों करोड़ रुपये की चोरी बचाई। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के माध्यम से देश के पांच करोड़ गरीब महिलाओं को गैस कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा है, जिसमें से लगभग दो करोड़ महिलाओं को गैस कनेक्शन वितरित किये जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि आजादी के 70 साल बाद भी देश के लगभग 12 करोड़ परिवार ऐसे थे जिनके घर में टॉयलेट्स तक नहीं थे, हमने तीन ही साल में साढ़े चार करोड़ टॉयलेट्स बनाने का काम ख़त्म कर दिया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने खुले में शौच से मुक्ति का मुहिम शुरू कर महिलाओं को सम्मान के साथ जीने का अधिकार दिया है। उन्होंने कहा कि मुद्रा बैंक के माध्यम से मोदी सरकार देश के 7.64 करोड़ लोगों को स्वरोजगार देने का काम किया है। उन्होंने कहा कि आजादी के इतने वर्षों बाद भी घरों में लाईट नहीं थी, टॉयलेट्स नहीं थे, गैस सिलिंडर नहीं पहुंचा था और मीडिया पूछती है कि अच्छे दिन आ गए? उन्होंने कहा कि जिस के घर में गैस का सिलिंडर पहुंचा है, जिस घर में शौचालय का निर्माण हुआ है, जिस घर में बिजली पहुंची है, वहां अच्छे दिन जरूर आ गए हैं।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि केरल के विकास के लिए मोदी सरकार ने कई कदम उठाये हैं और केरल को विकास के लिए केंद्र से मिलने वाले फंड में काफी बढ़ोत्तरी की है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सोनिया-मनमोहन सरकार के समय, जिसमें वामपंथी पार्टियां भी भागीदार थी, 14वें वित्त आयोग में केरल का सेन्ट्रल टैक्स में शेयर 33368 करोड़ रुपये का था, जबकि मोदी सरकार के 15वें वित्त आयोग में यह बढ़कर 98912 करोड़ रुपया हो गया है। उन्होंने कहा कि सोनिया-मनमोहन के यूपीए II ने केरल को ग्रांट-इन ऐड के रूप में 5476 करोड़ रुपये दिए थे जबकि मोदी सरकार ने इसके लिए केरल को 17968 करोड़ रुपये आवंटित किये हैं। उन्होंने कहा कि यूपीए II के समय केरल को रेवेन्यू डेफिसिट ग्रांट के रूप में कुछ भी नहीं मिलता था, जबकि मोदी सरकार ने रेवेन्यू डेफिसिट ग्रांट के रूप में केरल के लिए 9519 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के यूपीए II के समय केरल को लोकल बॉडीज ग्रांट के रूप में 2732 करोड़ रुपये मिले थे, जबकि मोदी सरकार ने इसके लिए 15वें वित्त आयोग में 7683 करोड़ रुपये की व्यवस्था की है। उन्होंने कहा कि केरल में हाईवे निर्माण के लिए 64 हजार करोड़ रुपये, डीप वाटर सीपोर्ट के लिए 2500 करोड़ रुपये से अधिक की राशि और रेलवे के विकास के लिए लगभग 2500 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की गई है। उन्होंने कहा कि इसके अलावे स्मार्ट सिटीज के लिए 194 करोड़ रुपये, 9 अमृत सिटीज के लिए 2359 करोड़ रुपये, कोचीन मेट्रो के लिए 1257 करोड़ रुपये, 3632 हेक्टेयर भूमि पर माइक्रो इरिगेशन के लिए 180 करोड़ और मछुआरों के लिए ग्रीन रिवोल्यूशन हेतु 130 करोड़ रुपये दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि 70 हजार करोड़ रुपये की बढ़ोत्तरी केवल सेन्ट्रल ग्रांट में की गई है। उन्होंने कहा कि यदि इन सभी ग्रांट को जोड़ दिया जाय तो यह 150000 करोड़ रुपये का बजट बनता है। उन्होंने कहा कि ये सभी प्रोजेक्ट 100 करोड़ रुपये से ज्यादा के प्रोजेक्ट हैं। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त जन-धन के माध्यम से केरल में लगभग 32 लाख लोगों के बैंक अकाउंट खोले गए, मुद्रा योजना के तहत 19.59 लाख लोगों को 11 655 करोड़ रुपये के ऋण उपलब्ध कराये गए, लगभग 2.27 लाख टॉयलेट्स बनाए गए और आज केरल में 2035 गांव ऐसे हैं जहां टॉयलेट्स बनाने का काम समाप्त हो चुका है। उन्होंने कहा कि केरल में लगभग एक करोड़ एलईडी बल्ब वितरित किये गए हैं।

‘िहंसा से भाजपा की प्रगति को नहीं रोका जा सकता’

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने तीन दिवसीय केरल प्रवास के अंतिम दिन 4 जून को त्रिवेंद्रम में भाजपा के नए प्रदेश कार्यालय की नींव रखी और राज्य भर के पार्टी कार्यकर्ताओं से केरल को भाजपा का मजबूत गढ़ बनाने का आह्वान किया। श्री शाह ने चेंकलचूला के बूथ संख्या 96 में स्थित पार्टी कार्यकर्ता श्री रतीश जी के निवास पर सुबह का नाश्ता किया। तत्पश्चात भाजपा अध्यक्ष ने चेंकलचूला के बूथ संख्या 95 में भारतीय जनता पार्टी पार्टी की बूथ कमिटी मीटिंग में भाग लिया और पार्टी की गतिविधियों की समीक्षा की। इस अवसर पर उन्होंने समाज सुधार के लिए काम करने वाले कई वरिष्ठ लोगों को भी सम्मानित किया। बूथ कमिटी मीटिंग में भाजपा की वयोवृद्ध महिला कार्यकर्ता गोमती अम्मा भी पहुंची और उन्होंने कार्यकर्ताओं को आशीर्वाद दिया। श्री शाह ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्मशती कार्य विस्तारक योजना के तहत केरल में बूथ स्तर पर पार्टी को मजबूत करने निकले पार्टी के पूर्णकालिक कार्यकर्ताओं के साथ भी एक बैठक की और पार्टी के विस्तार एवं विचारधारा के प्रचार-प्रसार की रणनीति पर चर्चा की। ज्ञात हो कि भाजपा अध्यक्ष देश के सभी राज्यों के अपने 110 दिन के विस्तृत प्रवास कार्यक्रम के तहत तीन दिन के दौरे पर केरल में थे।

भाजपा के नए प्रदेश कार्यालय के शिलान्यास कार्यक्रम में बोलते हुए श्री शाह ने कहा कि आज का दिन भारतीय जनता पार्टी के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण दिन है। उन्होंने कहा कि किसी और पार्टी के लिए कार्यालय का महत्व ज्यादा हो या न हो, लेकिन भारतीय जनता पार्टी ऐसी पार्टी है जो कार्यालय के बिना चल ही नहीं सकती क्योंकि भारतीय जनता पार्टी विचारधारा के आधार पर एवं संगठन की शक्ति के बल पर चलने वाली पार्टी है। उन्होंने कहा कि कार्यालय निर्माण कार्य प्रकल्प के तहत दिसंबर 2019 तक देश के हर जिले में एक सुव्यवस्थित कार्यालय बनाने का काम पूरा कर लिया जाएगा।

केरल में भारतीय जनता पार्टी एवं विचार परिवार के कार्यकर्ताओं पर निरंतर हो रहे हिंसात्मक हमले और अत्याचार पर कड़ा प्रहार करते हुए श्री शाह ने कहा कि केरल में जब-जब लेफ्ट पार्टी की सरकार आती है, तब-तब भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं पर हिंसात्मक हमले बढ़ जाते हैं, अत्याचार बढ़ जाता है। उन्होंने कहा कि इस बार भी केरल में वामपंथी सरकार आने के बाद एक-के-बाद-एक भारतीय जनता पार्टी और विचार परिवार के 13 से अधिक कार्यकर्ताओं की निर्मम हत्या राजनीतिक कारणों से वामपंथियों द्वारा कर दी गई है। उन्होंने कहा कि इससे भी अधिक खतरनाक और शर्म की बात यह है कि इसमें से अधिकतर हत्या केरल के मुख्यमंत्री के स्वयं के विधान सभा क्षेत्र और जिले में हुई है। उन्होंने कहा कि यदि यहां के मुख्यमंत्री और उनकी पार्टी यह समझती है कि हिंसा से भारतीय जनता पार्टी की विचारधारा को दबा दिया जाएगा तो वे गलतफहमी में जी रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम पर जितना हिंसा और अत्याचार होगा, कमल उतना ही तेजी से खिल कर और निखर कर बाहर आयेगा। उन्होंने कहा कि सत्ताधारी पार्टी ये न सोचे कि केरल में उनकी सरकार है, इसलिए भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं की हत्या करने वाले बच निकलेंगे। उन्होंने कहा कि हम क़ानून के रास्ते से यह सुनिश्चित करेंगे कि जिन्होंने भी भाजपा के कार्यकर्ताओं की हत्या की है, उन्हें कठोर से कठोर दंड मिले।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि केरल में जिस प्रकार से वामपंथी सरकार ने हिंसा की राजनीति शुरू की है, मुझे विश्वास है कि केरल की शांतिप्रिय जनता हिंसा की राजनीति को कभी भी स्वीकार नहीं करेगी।

केरल के सभी पार्टी कार्यकर्ताओं का आह्वान करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि हम सब मिलकर केरल में भारतीय जनता पार्टी का विस्तार करें और केरल को भारतीय जनता पार्टी का मजबूत गढ़ बनाएं। उन्होंने कहा कि आज मैं इस बूथ कमिटी मीटिंग के माध्यम से पूरे केरल के भाजपा कार्यकर्ताओं का आह्वान करना चाहता हूं कि आप हर बूथ को मजबूत कर केरल में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनाने के लिए एकजुट हो जाएं। उन्होंने कहा कि गोमती अम्मा का आशीर्वाद प्राप्त कर मैं अभिभूत हूं, अम्मा ने इतनी बड़ी आयु में कष्ट करके भी मंच पर आकर भारतीय जनता पार्टी को आशीर्वाद दिया हैं, मैं उनको प्रणाम करता हूं।