‘हमने विकासवाद को राजनीति का आधार बनाया और सत्ता को सेवा का माध्यम’


भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा ने 16 फरवरी को नवी मुंबई में महाराष्ट्र राज्य भाजपा परिषद् अधिवेशन को संबोधित किया और पार्टी पदाधिकारियों, राज्य के भाजपा जन-प्रतिनिधियों एवं कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन किया। अधिवेशन में 10,000 से अधिक पार्टी पदाधिकािरयों और जन-प्रतिनिधियों ने भाग लिया जिसमें राज्य के भाजपा सांसद, विधायक, मेयर, महापौर और नगर सेवक के साथ-साथ महाराष्ट्र में पार्टी के सभी मंडल अध्यक्ष, जिला अध्यक्ष एवं सभी मोर्चों के अध्यक्ष भी शामिल हैं। ज्ञात हो कि राष्ट्रीय अध्यक्ष पद की जिम्मेवारी संभालने के बाद श्री नड्डा का यह पहला महाराष्ट्र दौरा था।

श्री नड्डा ने कहा कि यह विचारधारा हमारे मनीषी नेताओं की नेतृत्व क्षमता, कार्यकर्ताओं के परिश्रम की पराकाष्ठा और सत्ता को जन-सेवा का माध्यम बनाने की हमारी नीति का ही परिणाम है कि भारतीय जनता पार्टी 17 करोड़ से अधिक सदस्यों के साथ आज दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है। आज देश में भाजपा के 385 सांसद, लगभग 1325 विधायक और काफी बड़ी संख्या में पंचायत से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक चुने हुए जन-प्रतिनिधि हैं। उन्होंने कहा कि जन संघ से लेकर अब तक के हमारे सभी प्रस्तावों में एकरूपता है, निरंतरता है। भाजपा आज तक अपने विचारों से डिगी नहीं, लगातार अपने ध्येय को लेकर चलती रही।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि विगत छः वर्षों में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने जो कार्य किये हैं और जो निर्णय लिए हैं, वे अकल्पनीय हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की दृढ़ राजनीतिक इच्छाशक्ति और गृह मंत्री श्री अमित शाह की रणनीति के बल पर धारा 370 धाराशायी हुआ और जम्मू-कश्मीर में विकास का नया सबेरा हुआ। धारा 370 और 35A के खात्मे से घाटी में आतंकवाद, अलगाववाद और भ्रष्टाचार पर करारा प्रहार हुआ और शांति कायम हुई। आजादी के बाद पहली बार जम्मू-कश्मीर में बीडीसी के चुनाव हुए और 80 सीटों पर विजय के साथ भाजपा को आशातीत सफलता मिली, जबकि कांग्रेस महज एक सीट जीत पाई। पीडीपी-एनसी तो चुनाव मैदान छोड़ भाग खड़े हुए।

श्री नड्डा ने कहा कि 500 वर्षों से चले आ रहे अयोध्या विवाद का हल हुआ और उस जगह पर भगवान् श्रीराम का भव्य मंदिर बनने का रास्ता प्रशस्त हुआ जहां प्रभु श्रीराम का जन्म हुआ था। हमने सामाजिक कुरीतियों को जड़ से उखाड़ फेंकने का संकल्प लिया है। इसी कड़ी में हमने ट्रिपल तलाक की कुप्रथा को ख़त्म कर मुस्लिम महिलाओं को सम्मान के साथ जीने का अधिकार दिया। पहली बार यूएपीए और एनआईए जैसे कानून लागू हुए और काले धन को रोकने का सार्थक प्रयास किया गया।

श्री नड्डा ने कहा कि सीएए को लेकर कांग्रेस और उसकी सहयोगी पार्टियों ने अराजकता फैलाने की कोशिश की, जनता को गुमराह कर दंगे कराने की साजिश रची जबकि हमने बार-बार विरोध कर रहे लोगों से पूछा कि सीएए के किस प्रावधान को लेकर आपको दिक्कत है लेकिन वे बताते नहीं। वे बता पायेंगें भी नहीं क्योंकि सीएए का हिंदुस्तान के नागरिकों से कोई लेना-देना ही नहीं है। वास्तविकता यह है कि देश में विपक्ष के लिए वोट बैंक पहले आता है जबकि हमारे लिए देश सबसे पहले आता है। हम केवल और केवल देश के बारे में सोचते हैं, इसलिए हर वह कदम उठाते हैं जो देश के लिए उचित है।

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में आज हमारी सरकार नहीं है लेकिन पांच वर्षों में भारतीय जनता पार्टी की देवेन्द्र फड़णवीस सरकार ने राज्य के विकास के लिए इतने काम किये कि आज भी जनता हमारी सरकार को याद कर रही है लेकिन आज महाराष्ट्र की तीन पहिये वाली सरकार देवेन्द्र फड़णवीस सरकार द्वारा शुरू किये गए विकास कार्यों में रुकावट उत्पन्न कर रही है। इन्फ्रास्ट्रक्चर पर लाखों करोड़ रुपये महाराष्ट्र में देवेन्द्र फड़णवीस सरकार ने खर्च किये। शिक्षा के क्षेत्र में पांच साल पहले महाराष्ट्र 17वें और स्वास्थ्य में छठे स्थान पर था, जबकि देवेन्द्र फड़णवीस सरकार के पांच सालों के कार्यकाल में ही महाराष्ट्र इन दोनों क्षेत्र में तीसरे स्थान पर आ गया। जलयुक्त शिवार अभियान ने समग्र भारत में जल संचयन और जल संरक्षण की दिशा में एक नई मिसाल कायम की।

स्वच्छ भारत अभियान में भी देवेन्द्र फड़णवीस सरकार के समय महाराष्ट्र ने सफल योगदान दिया।
श्री नड्डा ने कहा कि हमने महाराष्ट्र में देवेन्द्र फड़णवीस के नेतृत्व में भाजपा की स्थिर और स्थायी सरकार दी। हमने विकासवाद को राजनीति का आधार बनाया, सत्ता को सेवा का माध्यम बनाया और प्रदेश की छवि और तसवीर को बदलने का कार्य किया।