भारत का विश्व में प्रति दस लाख आबादी पर सबसे कम मौत होने का क्रम जारी है


भारत में प्रति दस लाख आबादी पर सबसे कम मौत होने का क्रम जारी है। यह संख्या आज 81 है। 2 अक्टूबर से लेकर अब तक 1100 से कम मौत हुई हैं। इन परिणामों में 22 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों का योगदान है, जिन्होंने बेहतर प्रदर्शन किया है और इन राज्यों से राष्ट्रीय औसत की तुलना में प्रति दस लाख आबादी पर कम मौत दर्ज हो रही हैं।

कोविड प्रबंधन और प्रतिक्रिया नीति के हिस्से के रूप में, केन्द्र सरकार का तेजी से ध्यान न केवल कोविड के संक्रमण को फैलने से रोकना है बल्कि इससे होने वाली मौतों को कम करना और कोविड के गंभीर रोगियों को गुणवत्तायुक्त नैदानिक उपचार उपलब्ध कराकर लोगों की जान बचाना भी है। केन्द्र और राज्य/केन्द्र शासित प्रदेशों की सरकारों के सहयोगात्मक प्रयासों के फलस्वरूप पूरे देश में स्वास्थ्य सेवाओं में मजबूती आई है। समर्पित कोविड अस्पताल गुणवत्तायुक्त चिकित्सा देखभाल प्रदान कर रहे हैं। केन्द्र सरकार ने नैदानिक उपचार प्रोटोकॉल में शामिल मानक दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं, जिससे सरकारी और निजी अस्पतालों में कोविड मरीजों के लिए मानकीकृत गुणवत्ता वाली चिकित्सा देखभाल सुनिश्चित हुई है।

मृत्यु दर घटाने के लिए गंभीर रोगियों के नैदानिक प्रबंधन में आईसीयू डॉक्टरों के क्षमता निर्माण की एक विशिष्ट पहल ई-आईसीयू की एम्स, नई दिल्ली में शुरूआत की गई। एक सप्ताह में दो दिन- मंगलवार और शुक्रवार को राज्य अस्पतालों में आईसीयू का संचालन करने वाले डॉक्टरों के लिए परामर्श सत्रों का विशेषज्ञों दवारा आयोजन किया जा रहा है। ये सत्र 8 जुलाई, 2020 से शुरू हुए हैं।

आज की तारीख तक ऐसे 23 टेली-सत्र आयोजित किए जा चुके हैं, जिनमें 34 राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेश के 334 संस्थानों ने भाग लिया है।

नए पुष्ट मामलों की तुलना में अधिक मरीजों के ठीक होने की गति बरकरार रखते हुए पिछले 24 घंटों में एक दिन में 70,338 मरीज ठीक हुए हैं, जबकि नए पुष्ट मामलों की संख्या 63,371 रही है। अब तक कुल 64,53,779 मरीज ठीक हो चुके हैं। ठीक हुए मामलों और सक्रिय मामलों के बीच अंतर बढ़कर 56 लाख (56,49,251) हो गया है। ठीक हुए मामले अब सक्रिय मामलों की तुलना में 8 गुना से अधिक हैं।

सक्रिय मामलों में लगातार कमी आ रही हैं। वर्तमान में सक्रिय मामलें कुल पॉजिटिव प्रतिशत मामले के केवल 10.92 हैं। देश में पॉजिटिव मामलों की संख्या 8,04,528 है। अधिक संख्या में मरीजों के ठीक होने से राष्ट्रीय रिकवरी दर में और सुधार हुआ है, जो बढ़कर 87.56 प्रतिशत हो गई है।

78 प्रतिशत ठीक हुए नए मामलें 10 राज्यों/केन्द्र शासित प्रदेशों में केंद्रित हैं। अकेले महाराष्ट्र में एक दिन में 13,000 से अधिक नए मरीज ठीक हुए हैं इस प्रकार महाराष्ट्र ने इसमें सबसे अधिक योगदान दिया है।