कोविड-19 के चलते कोल इंडिया के कर्मचारी की मृत्यु को दुर्घटनावश मृत्यु माना जाएगा: प्रह्लाद जोशी


केन्द्रीय कोयला एवं खान मंत्री श्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि कोरोना महामारी के चलते कोल इंडिया के कर्मचारियों की मृत्यु को दुर्घटना में हुई मृत्यु माना जाएगा और कर्मचारी के परिजनों को ऐसे सभी वित्तीय लाभ मिलेंगे जो उन्हें ड्यूटी के दौरान दुर्घटनावश मृत्यु की स्थिति में मिलते हैं। 

  • झारखंड की एक दिवसीय यात्रा के दौरान रांची में श्री जोशी ने कहा कि इस फैसले से कोल इंडिया के 4 लाख स्थायी और संविदा कर्मचारियों को फायदा होगा। उन्होंने कहा कि कोविड महामारी के दौरान कोल इंडिया के कर्मचारियों ने अपनी जान को खतरे में डालकर शानदार प्रदर्शन किया है। यही वजह है कि मैं उन्हें कोयला योद्धा (कोल वारियर्स) कहता हूं। मैंने राष्ट्र के प्रति उनकी अमूल्य सेवाओं को सम्मान देने के लिए ही इस लाभ का ऐलान किया है।
  • केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि झारखंड में 9 कोयला खदानों की व्यावसायिक नीलामी के अंतर्गत राज्य को राजस्व के रूप में एक साल में 3,200 करोड़ रुपये से ज्यादा कमाई होने का अनुमान है और राज्य के लोगों के लिए 50,000 अतिरिक्त रोजगार पैदा होंगे।