दिल्ली सरकार के अस्पतालों की हालत दयनीय : भाजपा


भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. संबित पात्रा ने 12 जून को जारी एक प्रेस वक्तव्य में कहा कि दिल्ली में कम टेस्टिंग, दिल्ली सरकार के अस्पतालों की दयनीय हालत और मरीजों एवं शवों के साथ हो रहे अमानवीय व्यवहार को लेकर दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर सर्वोच्च न्यायालय की फटकार चिंताजनक है, जो इस बात की ओर इशारा कर रही है कि दिल्ली में स्वास्थ्य व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई है

भाजपा राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. पात्रा के प्रेस वक्तव्य के मुख्य बिंदु:

  • यह समय आक्रामक राजनीति का नहीं, बल्कि साथ मिलकर दिल्ली को संभालने का, गंभीरतापूर्वक दिल्ली के विषय में चिंता करने का है। नकारात्मक राजनीति छोड़कर केजरीवाल सरकार को जमीन पर काम करना चाहिए और दिल्ली के लोगों की चिंता करनी चाहिए।
  • जब मुंबई और चेन्नई जैसे शहरों ने टेस्टिंग बढ़ा दी है और देश में कोरोना वायरस के मामले रोजाना 10,000 के करीब आ रहे हैं, तो समझ में नहीं आ रहा कि दिल्ली में टेस्टिंग क्यों प्रतिदिन 7,000 से घटाकर केवल 5,000 या उससे भी नीचे कर दी गई है?
  • केजरीवाल सरकार को अपनी पब्लिसिटी पर खर्च करने के बजाय अस्पतालों पर खर्च करना चाहिए।