दो करोड़ भवन और अन्य निर्माण श्रमिकों को लॉकडाउन के दौरान 4957 करोड़ रुपये की नकदी सहायता मिली


राज्य सरकारों ने श्रम एवं रोजगार मंत्रालय द्वारा 24 मार्च, 2020 को जारी एक परामर्शी के प्रत्युत्तर में लॉकडाउन के दौरान देश भर के लगभग दो करोड़ पंजीकृत निर्माण मजदूरों को आज की तारीख तक 4957 करोड़ रुपये की नकदी सहायता वितरित की है।

  • लगभग 1.75 करोड़ लेन-देन प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी) के जरिये सीधे श्रमिकों के बैंक खातों में किए गए। लॉकडाउन के दौरान 1000 रुपये से 6 हजार रुपये प्रति श्रमिक के बराबर के नकदी लाभ के अतिरिक्त कुछ राज्यों ने अपने मजदूरों को भोजन तथा राशन भी उपलब्ध कराया है।
  • कोविड-19 लॉकडाउन के चुनौतीपूर्ण समय के दौरान श्रम एवं रोजगार मंत्रालय, जोकि निर्माण श्रमिकों के कल्याण के मामले में सभी राज्य सरकारों एवं राज्य कल्याण बोर्डों के साथ समन्वय करने वाला नोडल केंद्रीय मंत्रालय है, ने मजदूरों की सर्वाधिक जरुरत के समय, उन्हें समय पर नकदी अंतरण सुनिश्चित कराने हेतु उल्‍लेखनीय प्रयास किया।