विश्व जैव ईंधन दिवस के अवसर पर वेबिनार आयोजित


विश्व जैव ईंधन दिवस के अवसर पर पेट्रोलिमय और प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने 10 अगस्त को एक वेबिनार आयोजित किया, जिसका विषय था- ‘जैव ईंधन की ओर आत्मनिर्भर भारत।’ विश्व जैव ईंधन दिवस परम्परागत जीवाष्म ईंधन के एक विकल्प के रूप में गैर-जीवाष्म ईंधनों के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करने और जैव ईंधन के क्षेत्र में सरकार द्वारा किये गये विभिन्न प्रयासों को उजागर करने के लिए हर वर्ष 10 अगस्त को मनाया जाता है। पेट्रोलिमय और प्राकृतिक गैस मंत्रालय 2015 से विश्व जैव ईंधन दिवस मना रहा है। 

  • जैव ईंधन कार्यक्रम भारत सरकार की ‘आत्मनिर्भर भारत’ पहल से जुड़ा हुआ है और इसके अनुसार ही विश्व जैव ईंधन दिवस, 2020 की विषय वस्तु चुनी गई है। कोविड-19 महामारी को देखते हुए इस वर्ष समारोह वेबिनार के जरिए आयोजित किया गया।
  • जैव ईंधनों के अनेक लाभ हैं, जैसे आयात निर्भरता में कमी आती है, स्वच्छ वातावरण सुनिश्चित होता है, किसानों की अतिरिक्त आमदनी होती है तथा रोजगार सृजन होता है। वर्ष 2014 से भारत सरकार ने जैव ईंधन का सम्मिश्रण बढ़ाने की अनेक पहलें की हैं।