पीपीई एवं अन्य जरूरी उत्पादों को आधिकारिक रूप से प्रमाणित करने का काम शुरू होगा


भारत सरकार के रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय के तहत एक प्रमुख राष्ट्रीय संस्थान केंद्रीय प्लास्टिक इंजीनियरिंग एवं प्रौद्योगिकी संस्थान (सीआईपीईटी) कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र में विनिर्माण पर अनुसंधान एवं विकास (आरएंडडी) और डब्ल्यूएचओ/ आईएसओ के दिशा-निर्देशों के अनुसार पीपीई और अन्य जरूरी जरूरी उत्पादों को आधिकारिक रूप से प्रमाणित करने का काम शुरू करेगा।

सीआईपीईटी ने बताया है कि कैबिनेट सचिवालय की तरफ से मिले निर्देशों के अनुसार सीआईपीईटी को स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र में अनुसंधान एवं विकास का काम शुरू करने की सलाह दी गई है। भुवनेश्वर, चेन्नई और लखनऊ के तीन सीआईपीईटी: प्लास्टिक प्रौद्योगिकी संस्थान केंद्रों पर परीक्षण एवं अंशशोधन के लिए राष्ट्रीय प्रमाणन बोर्ड प्रयोगशालाओं में पीपीई एवं सहायक उपकरणों की डब्ल्यूएचओ/आईएसओ के दिशा-निर्देशों के अनुसार जांच के लिए परीक्षण सुविधा जल्द ही तैयार करा दी जाएगी।

सीआईपीईटी: कौशल एवं तकनीकी मदद केंद्र (सीएसटीएस), मुरुथल ने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में एक सुरक्षात्मक उपकरण के रूप में स्वास्थ्य कर्मियों, किसानों, श्रमिकों, पुलिसकर्मियों इत्यादि को सहायता करने प्रदान करने के लिए एक ‘फेस शील्ड’ विकसित किया है।

तेजस एफओसी विमान भारतीय वायुसेना को सौंपा गया


भारतीय वायु सेना (आईएएफ) ने 27 मई को वायु सेना स्टेशन सुलूर में तेजस एमके-1 एफओसी विमान को हाल ही में पुनर्जीवित किए गए नंबर 18 स्‍क्‍वैड्रन, जो कि ‘फ्लाइंग बुलेट’ के नाम से जाना जाता है, में शामिल किया।

यह भारतीय वायु सेना की परिचालन क्षमता को बढ़ाने की दिशा में एक और महत्वपूर्ण कदम है। इस तरह के विमान को शामिल करने वाला भारतीय वायुसेना का यह पहला स्क्वैड्रन है।

यह देश के स्वदेशी लड़ाकू विमान कार्यक्रम में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर भी है और ‘मेक इन इंडिया’ पहल को भी बढ़ावा देने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम भी है।

तेजस एमके-1 एफओसी एक एकल इंजन, हल्के वजन, बेहद चुस्त, सभी मौसम में बहु-भूमिका निभाने वाला लड़ाकू विमान है। हवा से हवा में ईंधन भरने में इसकी सक्षमता इसे वाकई एक बहुमुखी प्लेटफॉर्म बनाती है।

PM Narendra Modi emphasizes the need to enhance consumer satisfaction


The Prime Minister reviewed the work of the Ministry of Power and Ministry of New and Renewable Energy, last evening.  Prime Minister emphasized the need to enhance consumer satisfaction.

He pointed out that the problems in the power sector, especially of the electricity distribution segment, vary across regions and states. Instead of looking for a one-size-fits-all solution, the Ministry should put in place state-specific solutions to incentivize each state to improve its performance. He advised the Ministry of Power to ensure that the DISCOMs publish their performance parameters periodically so that the people know how their DISCOMs fare in comparison to the peers.

He also emphasized that equipments usages in power sector to be make in India. Prime Minister also desired to expedite the plan for carbon neutral Ladakh and emphasized for drinking water supply in coastal areas by harnessing the solar and wind energy.

UPDATES ON COVID-19


Health ministry in its press release said:

– India has recorded 158,333 cases and 4,531 deaths.

– The country has recorded over 6,000 cases for the last three days.

– Five measures should be taken to prevent spread of Covid-19 – maintain hygiene, surface cleaning, physical distancing, tracking and testing. In the absence of drugs and vaccine, these steps can be taken by us.

-The disease spreads as our immune response takes a little longer and the virus by that time overwhelmes us. The vaccine is given to those who are not infected, that’s why safety is important. It usually takes 10 to 15 years to develop vaccines at a cost of 200-300 million dollars.

– Start-ups and acadamics have also got into developing vaccines. There are about 30 groups in India, big industries to individual academics, of which 20 are keeping good pace.

प्रधानमंत्री मोदी ने अबु धाबी के क्राउन प्रिंस और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री से की बातचीत


प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने अबु धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री सुश्री शेख हसीना के साथ 25 मई को दूरभाष पर बातचीत की।  

  • प्रधानमंत्री श्री मोदी और अबु धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने कोविड-19 महामारी के मौजूदा हालात में दोनों देशों के बीच प्रभावी सहयोग पर संतोष जाहिर किया। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने संयुक्त अरब अमीरात में भारतीय नागरिकों को मदद पहुंचाने के लिए क्रॉउन प्रिंस को धन्यवाद दिया।
  • प्रधानमंत्री श्री मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री सुश्री हसीना ने भारत और बांग्लादेश में चक्रवाती तूफान से हुए नुकसान के आकलन को एक-दूसरे के साथ साझा किया। दोनों नेताओं ने कोविड महामारी से उभरे हालात और इस संदर्भ में दोनों देशों के बीच जारी सहयोग पर चर्चा की। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने इन चुनौतियों का सामना करने में बांग्लादेश को भारत की मदद जारी रखने की फिर से पुष्टि की।

India-Australia partnership provides a good base to work


Defence Minister Shri Rajnath Singh has talked to the Defence Minister of Australia on 26 May and discussed the responses of both the countries and also the possible areas of mutual cooperation between India and Australia against the COVID-19 pandemic.

  • In series of tweets Shri Singh said, “Had an excellent telephonic conversation with the Defence Minister of Australia, Ms @lindareynoldswa. We discussed the responses of both the countries and also the possible areas of mutual cooperation between India and Australia against the COVID-19 pandemic”.
  • Shri Singh further said, “India-Australia strategic partnership provides a good base for both the countries to work together in dealing with the post COVID challenges. We are committed to take forward the initiatives of bilateral defence and security cooperation under the Strategic Partnership framework”.

अब चारधाम यात्रा होगी और आसान, चंबा में 3 महीने में तैयार होगी 440 मीटर सुरंगः नितिन गडकरी


अब चारधाम की यात्रा करने वालों को काफी आसानी होगी। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की महत्वाकांक्षी इस योजना के लिए सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने व्यस्त चंबा शहर के नीचे हाइवे पर 440 मीटर लंबी सुरंग खोद ली है।

  • 26 मई को केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गडकरी ने ट्वीट कर बीआरओ को बधाई देते हुए कहा, ‘‘मैं इस वैश्विक महामारी के बीच राष्ट्र निर्माण में अपने असाधारण योगदान के लिए पूरी बीआरओ टीम को बधाई देता हूं। केदारनाथ में तबाही आने के बाद से ही चारधाम के लिए सभी मौसम में संपर्क स्थापित करने को लेकर प्रतिबद्ध थे और इस दिशा में यह एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है।’’ बीआरओ ने राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-94 पर ऋषिकेश-धारसू रोड पर चंबा शहर के नीचे 440 मीटर लंबी सुरंग तैयार की है। इसके जरिए सभी मौसम में चारधाम – गंगोत्री, केदारनाथ, यमुनोत्री और बद्रीनाथ तक पहुंचा जा सकता है।
  • श्री गडकरी ने कहा कि निर्धारित तिथि से 3 महीने पहले ही अक्टूबर 2020 में सुरंग से यातायात शुरू हो जाएगा।

COVID-19 RECOVERY RATE IMPROVES TO 41.57%


A total of 57,720 people have been cured so far in India and in the last 24 hours, 3,280 patients were found cured says Ministry of Health and Family Welfare.

  • The Union Minister of Health and Family Welfare Dr. Harsh Vardhan on 25 May, 2020 said the total recovery rate from Coronavirus is 41.57% in the country.
  • A total of 57,720 people have been cured so far in India. The total number of confirmed cases is now 1, 38, 845 and the total number of cases under active medical supervision is 77,103.
  • The total number of confirmed cases is now 1,38,845. The number of cases under active medical supervision is 77,103.
  • The Ministry informed, Technical queries related to COVID-19 may be sent to technicalquery.covid19@gov.in and other queries on ncov2019@gov.in and @CovidIndiaSeva.

लॉकडाउन के बावजूद सरकारी एजेंसियों ने पिछले साल की तुलना में अधिक की गेहूं की खरीददारी


देश में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बावजूद सरकारी एजेंसियों ने इस बार 341.56 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीददारी की। पिछले साल यह आंकड़ा 341.31 लाख मीट्रिक टन था।

  • आमतौर पर गेहूं की कटाई मार्च के अंत तक शुरू हो जाती है और अप्रैल के पहले सप्ताह में सरकारी एजेंसियों द्वारा इनकी खरीद भी शुरू हो जाती है। लेकिन लॉकडाउन शुरू हो जाने की वजह से ये गतिविधियां रुक गई थीं। इस बीच फसल तब तक पक चुकी थी और कटाई के लिए तैयार थी। ऐसे में भारत सरकार ने लॉकडाउन अवधि के दौरान कृषि और उससे संबंधित गतिविधियां आरंभ करने की छूट दे दी।
  • महामारी के दौरान समूची गेहूं खरीद प्रक्रिया सुरक्षित तरीके से क्रियान्वित किया जाना सबसे बड़ी चुनौती थी। इस चुनौती से निपटने के लिए सुनियोजित बहुस्तरीय रणनीति बनाई गई। प्रौद्योगिकी के माध्यम से लोगों को संक्रमण से बचाव के उपायों तथा परस्पर दूरी बनाए रखने के नियमों के प्रति जागरूक बनाया गया। खरीद केन्द्रों पर किसानों की भीड़ न जुटे, इसके लिए ऐसे केन्द्रों की संख्या बढ़ाई गई।

भारत में चार कोरोना वैक्सीन जल्द ही क्लीनिकल ट्रायल स्टेज में पहुंचेंगी: हर्षवर्धन


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बताया कि देश में नोवल कोरोना वायरस की 14 में से चार वैक्सीन जल्द ही क्लीनिकल ट्रायल के चरण में जानेवाली हैं। अगले पांच महीनों में इन चार वैक्सीनों का मरीजों के इलाज में इस्तेमाल शुरू हो जाएगा।                            

  • भाजपा राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री जीवीएल नरसिम्हा राव के साथ एक ऑनलाइन बातचीत में उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया कोविड-19 के खिलाफ एक वैक्सीन बनाने में जुटी हुई है। वैक्सीन विकसित करने के लिए 100 से अधिक उम्मीदवार लगे हुए हैं, जो विभिन्न स्तरों पर काम कर रहे हैं। डब्ल्यूएचओ प्रयासों का समन्वय कर रहा है।
  • उन्होंने कहा कि भारत भी इस वैक्सीन को बनाने के लिए दिन-रात काम कर रहा है। हमारे पास 14 वैक्सीन हैं जिन पर विभिन्न स्तरों पर काम किया जा रहा है। मिनिस्ट्री ऑफ साइंस ऐसे सभी प्रयासों में डिपार्टमेंट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी की मदद कर रहा है।
  • कोविड-19 वैक्सीन विकसित करने के प्रयासों में पीएम केयर फंड ट्रस्ट ने 100 करोड़ रुपये आवंटित करने का निर्णय लिया है।

India brings back over 28,000 stranded nationals from 30 countries


India has brought back over 28,500 nationals stranded in over 30 countries during the first two phases of a massive and complex repatriation process. While MEA is the lead ministry handling the ‘Vande Bharat’ and ‘Samudra Setu’ missions, officials said it involves close coordination with a whole bunch of other ministries.

  • The breakup of the people returning went something like this — 4921 students, 3969 professionals, 5936 workers, 3254 tourists, 3588 visitors, 610 deportees, 429 who were granted amnesty in different countries, 551 crew as well as 5272 from different categories, altogether 28,532 Indian nationals.
  • They have come back from 30 different countries — including UAE with the maximum number at 4,243, followed by the UK at 3,186, and the US at 2,678 making the top countries.
  • In addition, Navy Vessels brought back 1,488 Indians, while other countries’ aircraft, coming to India to pick up their own citizens brought back 910 people.

Now India producing more than 3 lakh PPEs and N95 masks per day


Ministry of Health & Family Welfare said India has significantly ramped up its domestic production capacity of PPEs and N95 masks, and the requirements of the States/UTs are being sufficiently met.

  • Today, the country is producing more than 3 lakh PPEs and N95 masks per day.
  • States/UTs as well as Central Institutions have been provided with around 111.08 lakh N-95 masks and around 74.48 lakh Personal Protective Equipment (PPE).
  • The Ministry of Health and Family Welfare is procuring PPE coveralls from manufacturers/suppliers only after getting their coveralls tested and approved by one of the eight labs nominated by the Ministry of Textiles (MoT) for testing the same. It is only after their products qualify in the test prescribed by the technical committee (JMG)
  • All the States/UTs have been asked to ensure procurement which is being carried out at their level after following the prescribed testing for PPEs from MoT nominated labs.