सीआरपीएफ पराक्रम, साहस और बलिदान का पर्याय है: अमित शाह


केन्द्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 82वें स्थापना दिवस पर बल के जवानों व उनके परिजनों को शुभकामनाएं दी। अपने ट्वीट संदेश में श्री शाह ने कहा कि सीआरपीएफ पराक्रम, साहस और बलिदान का पर्याय है। सीआरपीएफ ने समय-समय पर राष्ट्र को गौरवान्वित किया है। 

  • केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि कोविड-19 के दौरान समाज सेवा के प्रति उनकी कटिबद्धता अद्वितीय है। मैं करोड़ों भारतवासियों के साथ मिलकर सीआरपीएफ के बहादुर जवानों और उनके परिजनों को 82वें स्थापना दिवस पर शुभकामनाएं देता हूं।
  • केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल की स्थापना 27 जुलाई, 1939 को क्राउन रिप्रेजेंटेटिव पुलिस के रूप में हुई थी। 28 दिसम्बर, 1949 को सीआरपीएफ अधिनियम लागू होने के बाद यह केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल बन गया। सीआरपीएफ ने 27 जुलाई को अपने गौरवशाली इतिहास के 82 वर्ष पूरे कर लिए हैं।