जम्मू-कश्मीर अब एक नई सुबह, एक बेहतर कल के लिए तैयार है : नरेन्द्र मोदी


प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर से जुड़े विधेयक के पारित होने का स्वागत करते हुए इसे संसदीय लोकतंत्र के लिए महत्वपूर्ण अवसर बताया। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कई ट्वीट करते हुए आशा व्यक्त कि “हम एक साथ उठेंगे और 130 करोड़ भारतीयों के सपनों को पूरा करेंगे। मैं जम्मू-कश्मीर के निवासियों के साहस और जज्बे को सलाम करता हूं।

श्री मोदी ने कहा कि वर्षों तक भावुक ब्लैकमेलिंग पर विश्वास करने वाले स्वार्थी तत्वों ने कभी भी लोगों के अधिकारों की चिंता नहीं की। जम्मू-कश्मीर अब ऐसे लोगों के चंगुल से आजाद है और एक नई सुबह, एक बेहतर कल के लिए तैयार है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख से जुड़े विधेयक एकीकरण और अधिकारिता को सुनिश्चित करेंगे। ये कदम युवाओं को मुख्यधारा में लेकर आएगा और उन्हें अपने हुनर और कौशल को प्रदर्शित करने के अनगिनत अवसर प्रदान करेगा।

लद्दाख के लोगों को विशेष रूप से बधाई देते हुए प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि “ये अपार हर्ष का विषय है कि संघ शासित प्रदेश बनाने की उनकी लंबे समय से चली आ रही मांग पूर्ण हुई है। इस निर्णय से क्षेत्र में संपन्नता को बल मिलेगा और इससे बेहतर विकास सुविधाएं सुनिश्चित हो सकेंगी।
जम्मू-कश्मीर तथा लद्दाख से जुड़े इस अहम विधेयक का पारित होना, सरदार पटेल, जो देश की एकता के लिए समर्पित थे; बाबासाहेब अम्बेडकर, जिनके विचार सर्वविदित हैं; डॉ़ श्यामा प्रसाद मुखर्जी, जिन्होंने भारत की एकता और अखंडता के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया, को सच्ची श्रद्धांजलि है।
उन्होंने कहा कि ‘संसद में विभिन्न राजनीतिक दलों ने दलगत राजनीति से ऊपर उठकर और वैचारिक मतभेदों को भुलाकर सार्थक चर्चा की, इसने हमारे संसदीय लोकतंत्र की गरिमा को बढ़ाने का काम किया है। इसके लिए मैं सभी सांसदों, राजनीतिक दलों और उनके नेताओं को बधाई देता हूं।’

प्रधानमंत्री ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि “जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों को गर्व होगा कि सांसदों ने वैचारिक मतभेदों को भुलाकर उनके भविष्य को लेकर चर्चा की। साथ ही साथ वहां शांति, प्रगति और समृद्धि की राह सुनिश्चित की। राज्यसभा में 125 के मुकाबले 61 और लोकसभा में 370 के मुकाबले 70 का विशाल बहुमत भारी समर्थन को दिखाता है।’
‘देश के उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला जी ने अपने-अपने सदन में जिस प्रकार से कार्यवाही का प्रभावी संचालन किया, उसके लिए वे पूरे देश की ओर से बधाई के पात्र हैं।’
प्रधानमंत्री श्री मोदी ने गृहमंत्री श्री अमित शाह को विशेष रूप से बधाई देते हुए कहा कि हमारे गृहमंत्री अमित शाह जी जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों के बेहतर जीवन को सुनिश्चित करने के लिए निरंतर कार्य कर रहे हैं। उनका समर्पण और अथक प्रयास इन विधेयकों के पारित होने में स्पष्ट रूप से प्रदर्शित होता है। इसके लिए मैं अमित भाई को विशेष बधाई देता हूं।’

इस फैसले से जम्मू-कश्मीर के विकास का द्वार खुल गया है: जगत प्रकाश नड्डा

भारतीय जनता पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा ने संविधान के अनुच्छेद 370 एवं 35A को निरस्त करने के ऐतिहासिक निर्णय एवं उपलब्धि के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, गृहमंत्री श्री अमित शाह का हार्दिक अभिनंदन किया एवं इस फैसले का समर्थन करने वाले सभी संसद सदस्यों को हृदय से कोटि-कोटि धन्यवाद दिया और इसे भारत की एकता और अखंडता के लिए एक स्वर्णिम दिन बताया। उन्होंने अनुच्छेद 370 एवं 35A के निरस्त करने के निर्णय पर देश की जनता को भी हार्दिक बधाई दी।
#BharatEkHai टैगलाइन के साथ एक के बाद एक कई ट्वीट करते हुए श्री नड्डा ने कहा कि आज का दिन हिंदुस्तान के इतिहास में स्वराक्षरों में अंकित किया जाएगा जब भारत की एकता और अखंडता को पुनर्स्थापित करने हेतु संविधान के अनुच्छेद 370 एवं 35A को निरस्त करने का संकल्प लाकर कश्मीर को पूर्ण रूप से विकास की धारा के साथ जोड़ने का मार्ग प्रशस्त किया गया। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर एवं लद्दाख के गरीबों, शोषितों, वंचितों, युवाओं, महिलाओं, बुजुर्गों एवं सभी वर्गों को विकास की मुख्यधारा से जोड़े जाने के इस ऐतिहासिक अवसर को देश सदैव उत्सव के रूप में मनाएगा। उन्होंने कहा कि आज के ऐतिहासिक फैसले से स्पष्ट हो गया कि देश में दो विधान, दो प्रधान और दो निशान बिलकुल नहीं चलेंगे। जम्मू-कश्मीर हिंदुस्तान का अभिन्न अंग था, है और हमेशा रहेगा।
कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि आज प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं गृह मंत्री श्री अमित शाह के नेतृत्व में केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार ने जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाकर, जनसंघ के संस्थापक हमारे प्रणेता डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी को सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित की। मुखर्जी जी का सर्वोच्च बलिदान आज सफल हो गया। आज के बाद “दो विधान, दो प्रधान, दो निशान” नहीं होंगे। जय हिंद, जय भारत! उन्होंने कहा कि आज के फैसले से जम्मू-कश्मीर के विकास का द्वार खुल गया है, जिसके बल पर एक विकसित जम्मू-कश्मीर की नींव रखी जायेगी।

सरकार का साहसिक कदम : लालकृष्ण आडवाणी

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व उपप्रधानमंत्री श्री लालकृष्ण आडवाणी ने अनुच्छेद 370 हटाने के फ़ैसले को ‘साहसिक कदम’ बताया है। श्री आडवाणी ने कहा, “अनुच्छेद 370 हटाने के सरकार के फ़ैसले से मैं खुश हूं। मैं मानता हूं कि ये देश की अखंडता को मजबूत करने की दिशा में एक साहसिक कदम है।” उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री श्री अमित शाह को बधाई दी। श्री आडवाणी ने कहा है कि वो जम्मू, कश्मीर और लद्दाख की शांति, समृद्धि और प्रगति के लिए प्रार्थना करते हैं।

सरकार के साहसपूर्ण कदम का हम हार्दिक अभिनंदन करते हैं: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने मोदी सरकार के इस ऐतिहासिक फ़ैसले पर कहा, “सरकार के साहसपूर्ण कदम का हम हार्दिक अभिनंदन करते हैं। यह जम्मू-कश्मीर सहित पूरे देश के हित के लिए अत्यधिक आवश्यक था। सभी को अपने स्वार्थों एवं राजनीतिक भेदों से ऊपर उठकर इस पहल का स्वागत और समर्थन करना चाहिए।”

अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने से 70 साल का भेदभाव समाप्त : राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने और जम्मू-कश्मीर एवं लद्दाख को दो केंद्र शासित प्रदेशों में तब्दील करने के सरकार के फैसले से पिछले 70 वर्षों से लोगों द्वारा सामना किए रहे भेदभाव का अंत हो गया।
श्री सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान इस मुद्दे का स्थायी समाधान निकालने की आरंभिक तैयारी की गई। इस फैसले के कुछ प्रभाव होंगे।
उन्होंने कहा कि पड़ोसी देश खुश नहीं है और वह शांति को भंग करने का प्रयास करेगा। हमारी सेना ने सुरक्षा चुनौती को स्वीकार कर लिया है और यह किसी भी खतरे से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है।