प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मेगा रोड शो में उमड़ी काशी


प्रधानमंत्री ने वाराणसी से दुबारा नामांकन पत्र भरा

लोकसभा चुनाव के लिए अपना नामांकन पत्र भरने से एक दिन पहले प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी 25 अप्रैल को वाराणसी पहुंचे। वहां पर उन्होंने सात किलोमीटर का लंबा मेगा रोड शो किया। काशी हिंदू विश्वविद्यालय के सिंहद्वार पर महामना मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित करने के साथ शुरू हुए इस रोड शो में लाखों लोगों ने प्रधानमंत्री का स्वागत किया। इस दौरान पूरी काशी रोड शो के रूट पर ही नजर आई।

शंख ध्वनि के बीच निकले प्रधानमंत्री के रोड शो में धर्म और संस्कृति का अनूठा संगम और उत्साह दिखा। पूरे रास्ते गगनभेदी हर-हर महादेव उद्धोष गूंजता रहा। रोड शो में भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री श्री जेपी नड्डा, उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष श्री महेंद्र नाथ पांडेय, दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष श्री मनोज तिवारी समेत अनेक वरिष्ठ नेताओं ने भी हिस्सा लिया।

रोड शो दशाश्वमेध घाट पर आकर जब समाप्त हुआ तो श्री मोदी ने करबद्ध होकर मां गंगा को नमन किया और गंगा आरती की। गंगा आरती में श्री मोदी के अलावा भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष श्री महेंद्र नाथ पांडेय ने भी हिस्सा लिया।

नामांकन पत्र भरा

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने नामांकन पत्र भरने से पहले काल भैरव के मंदिर में पूजा की और कार्यकर्ताओं को संबोधित भी किया। श्री मोदी ने राजग और भाजपा के तमाम वरिष्ठ नेताओं के साथ 26 अप्रैल को अपना नामांकन पत्र भरा। नामांकन पत्र भरते समय भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री सर्व श्री राजनाथ सिंह, श्री नितिन गडकरी, श्रीमती सुषमा स्वराज, श्रीमती निर्मला सीतारमण, श्री पीयूष गोयल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, शिवसेना प्रमुख श्री उद्धव ठाकरे, अकाली दल के नेता श्री प्रकाश सिंह बादल, बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू नेता श्री नीतीश कुमार, लोजपा नेता श्री रामविलास पासवान और अपना दल की नेता सुश्री अनुप्रिया पटेल के अलावा राजग और भाजपा के अनेक वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

इतिहास में पहला ऐसा चुनाव जिसमें सत्ता के पक्ष में लहर

अपना नामांकन पत्र दाखिल करने से पूर्व प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 26 अप्रैल को कहा कि इस बार देश प्रो इन्कम्बेंसी वेव (सत्ता के पक्ष में लहर) देख रहा है और देश के इतिहास का यह इस तरह का पहला चुनाव है।

उन्होंने कहा कि जनता ने मन बना लिया है। इतिहास का पहला मौका है कि इस तरह का चुनाव लड़ा जा रहा है। श्री मोदी ने कहा कि हमारे देश में इतने चुनाव हुए हैं…चुनाव होने के बाद राजनीतिक पंडितों को अपनी माथापच्ची करनी पड़ेगी कि आजादी के बाद इतने चुनावों में…इस बार देश प्रो इन्कम्बेंसी वेव (सत्ता के पक्ष में लहर) देख रहा है।

उन्होंने कहा कि जनता हमें जितना प्यार दे रही है, उसके प्रति हमें हर पल आभार जताना है। कार्यकर्ता का परिश्रम और प्रजा का प्रेम ऐसा अद्भुत संगम कल था। उसी में से दिव्यता की अनुभूति होती है। उन्होंने साथ ही कहा कि राजनीति में प्रेम और दोस्ती खत्म हो रही है, जिसे वापस लाना है।

श्री मोदी ने वाराणसी में 1819 बूथ अध्यक्षों और 226 सेक्टर प्रमुखों को संबोधित करते हुए कहा कि हमें नम्रता के साथ चुनाव लड़ना है…आप मोदी के सिपाही हैं। टीवी और भाषण में जो हम झगड़ा करते हैं उससे प्रेरणा मत लीजिए। उन्होंने कहा कि दोस्ती और प्रेम राजनीति में जो खत्म हो रहा है, उसे वापस लाना है। कोई मोदी को कितनी भी भद्दी गाली दे, आप चिन्ता मत करो।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आप भी, जिसको जो गाली देनी है, वो सारी मोदी के खाते में पोस्ट कर दो। मैं गंदी से गंदी चीज से भी खाद बनाता हूं। कितना ही गंदा कूड़ा कचरा हो, मैं उसमें खाद बनाता हूं और उसी से कमल खिलाता हूं। उन्होंने कार्यकर्ताओं को बधाई देते हुए कहा कि कल जो दृश्य मैं देख रहा था, उसमें मुझे आपके परिश्रम की, आपके पसीने की महक आ रही थी। डगर-डगर मैं अनुभव करता था कि काशी के मेरे कार्यकर्ताओं ने इतनी भयंकर गर्मी में घर-घर जाकर सबसे आशीर्वाद मांगा। मैं भी बूथ का कार्यकर्ता रहा हूं। मुझे भी दीवारों पर पोस्टर लगाने का सौभाग्य मिला है।

उल्लेखनीय है कि 25 अप्रैल को श्री मोदी ने वाराणसी में रोड शो किया, जिसमें लाखों लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा।

श्री मोदी ने कहा कि मैं पूरे देश का चुनाव देख रहा हूं। देश की जनता पांच साल के अनुभव के आधार पर अनेक आशाएं, अपेक्षाएं और आकांक्षाएं लेकर हमसे जुड़ गयी है। ये बहुत बड़ा सौभाग्य है।
इसने पूरे देश के राजनीतिक चरित्र को बदल दिया है क्योंकि पहले सरकारें बनती थीं। लोग सरकारें बनाते थे…सरकार चलती है, लोगों ने ये भी देखा है। सरकार चलाना हमारी जिम्मेदारी है और जनता सरकार बनाती है।

उन्होंने कहा कि मेरे भीतर के कार्यकर्ता को मैंने कभी मरने नहीं दिया। प्रधानमंत्री के रूप में मैं जिम्मेदारी निभा पा रहा हूं। प्रधानमंत्री होने के नाते जो दायित्व है, मैं उसमें सजग हूं लेकिन एमपी के नाते जो जिम्मेदारी है, उसमें भी सजग हूं और भाजपा कार्यकर्ता के रूप में भी उतना ही। कार्यकर्ता के नाते ये आपने मुझे सिखाया है।