‘केंद्र सरकार ने पूर्वी भारत में स्थिति बदल दी है’

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2014 के बाद से विद्युतीकृत किए गए देशभर के ग्रामों के नागरिकों के साथ 19 जुलाई को वार्तालाप किया। वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से हुई इस बातचीत में प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना- ‘सौभाग्य योजना’ के लाभार्थियों को शामिल किया गया।

प्रधानमंत्री ने हाल ही में विद्युतीकृत 18000 ग्रामों के ग्रामीणों से वार्तालाप के दौरान प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि ‘‘जिन लोगों ने अंधेरा नहीं देखा है, वे रोशनी के अर्थ को नहीं समझ सकते हैं, जिन लोगों ने अंधेरे में अपनी जिंदगी नहीं बिताई उन्हें प्रकाश के मूल्य का एहसास नहीं है।”

प्रधानमंत्री ने इस वार्तालाप के दौरान कहा कि एनडीए सरकार के सत्ता में आने के बाद से हजारों ग्रामों का विद्युतीकरण किया गया है। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार द्वारा किए गए झूठे वादों के विपरीत, वर्तमान सरकार ने हर गांव में विद्युतीकरण के अपने वादे को पूरा किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ने न केवल विद्युतीकरण पर ध्यान केंद्रित किया है, बल्कि देशभर की वितरण प्रणाली में भी सुधार किया है।

उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता के 70 वर्षों के बाद भी इन 18000 गांवों का विद्युतीकरण नहीं किया गया था, जिन्हें एनडीए सरकार ने पिछले चार वर्षों में विद्युतीकृत कर दिया। पूर्वोत्तर क्षेत्र में मणिपुर के लीसांग गांव का 28 अप्रैल, 2018 को अंतिम गांव के तौर पर विद्युतीकरण किया गया।

श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि इन 18000 ग्रामों का विद्युतीकरण करना थोड़ा मुश्किल था, क्योंकि इनमें से अधिकांश गांव दूर-दराज के इलाकों, पहाड़ी क्षेत्रों और खराब संपर्क वाले क्षेत्रों में थे। उन्होंने कहा कि सभी कठिनाइयों के बावजूद लोगों की एक समर्पित टीम ने हर गांव में विद्युतीकरण का सपना साकार करने को सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत की।

श्री मोदी ने कहा पिछली सरकारों ने देश के पूर्वी क्षेत्र के विकास पर कोई खास ध्यान नहीं दिया था। ये क्षेत्र विकास और विभिन्न सुविधाओं से वंचित रहा। यह इस बात से समझा जा सकता है कि देश के 18000 से अधिक गांव जहां बिजली नहीं पहुंची थी, उनमें से 14,582 गांव ऐसे थे जो हमारे पूर्वी क्षेत्र में थे और उनमें भी यानी 14,582 गांव में से 5790 गांव पूर्वोत्तर भारत के थे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ने पूर्वी भारत में स्थिति बदल दी है। उन्होंने कहा कि सरकार ने पूर्वी भारत के विकास और इसके पूर्ण विद्युतीकरण को प्राथमिकता दीं और अब भारत का पूर्वी क्षेत्र भारत की विकास यात्रा में भी एक बड़ी भूमिका निभा सकता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना देश के हर घर में विद्युतीकरण के उद्देश्य से प्रारंभ की गई है और अब तक इस योजना के माध्यम से 86 लाख से अधिक परिवारों को विद्युतीकृत किया जा चुका है। योजना मिशन मोड पर है और यह चार करोड़ परिवारों के लिए बिजली कनेक्शन सुनिश्चित करेगी।

प्रधानमंत्री के साथ वार्तालाप करते हुए दूर-दराज के गांवों के लाभार्थियों ने बताया कि बिजली ने हमेशा के लिए उनके जीवन को बदल दिया है। सूर्यास्त से पहले अपना कार्य पूर्ण करने वाले लोगों और लालटेन के माध्यम से अध्ययन के लिए मजबूर बच्चों के जीवन को विद्युतीकरण ने बहुत आसान बना दिया है। अधिकांश लाभार्थियों ने कहा कि उनके जीवन स्तर में काफी सुधार आया है। इन लाभार्थियों ने अपने घरों में बिजली की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद भी दिया।