हमारे लिए देश की सुरक्षा सर्वोपरि है : अमित शाह


राजनांदगांव (छत्तीसगढ़)

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने 12 अप्रैल को कहा कि दंतेवाड़ा में नक्सली हमले में भाजपा विधायक भीमा मंडावी की मृत्यु सामान्य घटना नहीं है, इसमें राजनीतिक षड्यंत्र की बू आ रही है। छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले के डोंगरगांव में चुनावी सभा को संबोधित करने के दौरान श्री अमित शाह ने इसी महीने की 9 तारीख को दंतेवाड़ा जिले में नक्सली हमले में मारे गए भाजपा विधायक भीमा मंडावी को श्रद्धांजलि दी।

श्री अमित शाह ने कहा, ‘इस मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए। मंडावी की पत्नी ने भी इस मामले की सीबीआई जांच की मांग की है।’ भाजपा अध्यक्ष ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से कहा कि यदि इस मामले में कुछ छुपाना नहीं है, तब मंडावी पर हमले की जांच सीबीआई से करवानी चाहिए। इस मामले की निष्पक्ष जांच हो। बता दें कि दंतेवाड़ा जिले के श्यामगिरी गांव के करीब बीते मंगलवार को नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट कर भाजपा विधायक मंडावी के वाहन को उड़ा दिया था। इस घटना में मंडावी और तीन पुलिसकर्मियों की मृत्यु हो गई।

इस दौरान श्री अमित शाह ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल पर निशाना साधते हुए कहा, ‘जिनको कुछ छुपाना नहीं होता है, वह सीबीआई से नहीं डरता है। भूपेश बघेल ने मुख्यमंत्री बनने के बाद सबसे पहले सीबीआई को राज्य में जांच करने से रोका है, जबकि यहां 15 वर्ष तक रमन सिंह की सरकार ने कभी ऐसा नहीं किया था।’ भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि वह लगातार देश का दौरा कर रहे हैं और देश की जनता ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगा रही है। देश की जनता ने एक बार फिर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनाने के लिए तय कर लिया है।

इस दौरान उन्होंने मोदी सरकार की उज्ज्वला योजना, स्वच्छ भारत मिशन और सौभाग्य बिजली योजना जैसे अनेक योजनाओं को जनता के सामने रखा। श्री अमित शाह ने कहा, ‘देश में विकास के नारों से विकास नहीं होता है। जब गरीबों के लिए दिल में दर्द होता है, तब विकास होता है। यही कारण है कि छत्तीसगढ़ में रमन सिंह की सरकार ने वनवासियों को चरण पादुका दी। गरीबों को सस्ता अनाज दिया और उनके लिए कई अन्य काम किए।’

कांग्रेस की पूर्ववर्ती सरकार पर हमला बोलते हुए श्री शाह ने कहा, ‘10 साल में केंद्र में सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह की सरकार रही। उस दौरान देश में आंतकी घटनाएं हो जाती थीं, आंतकवादी जवानों का सिर काट लेते थे, तब कोई जवाब नहीं दिया जाता था, लेकिन अब जब देश में पुलवामा में जवानों पर हमला हुआ, तब वायुसेना ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकवादियों के अड्डों को तबाह कर दिया। इस घटना में देश में खुशियां छा गईं, लेकिन पाकिस्तान और कांग्रेस पार्टी के दफ्तर में मातम छा गया। वहीं, राहुल गांधी के गुरू सैम पित्रोदा कहते है कि उनसे बात करनी चाहिए लेकिन आतंकवादियों की गोली का जवाब गोला से दिया जाएगा। ईट का जवाब पत्थर से दिया जाएगा। हमारे लिए देश की सुरक्षा सर्वोपरि है।’

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, ‘उमर अब्दुल्ला ने कश्मीर में भी प्रधानमंत्री होने की बात कही है। यह कश्मीर को देश से अलग करना चाह रहे हैं और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी चुप हैं। राहुल गांधी जवाब दें कि वह उमर अब्दुल्ला के इस बयान से सहमत हैं या नहीं। जब तक देश में भारतीय जनता पार्टी का एक भी कार्यकर्ता जीवित है, कश्मीर को भारत से अलग नहीं होने दिया जाएगा।’

श्री शाह ने राज्य की कांग्रेस की सरकार पर भी निशाना साधा और कहा, ‘राज्य में आयुष्मान भारत योजना बंद कर गरीबों को परेशान किया जा रहा है। यहां तबादला उद्योग शुरू हो गया है। वहीं भूपेश बघेल सरकार ने टैक्स लगाकर सीमेंट का दाम बढ़ा दिया गया है। बेरोजगारों को बेरोजगारी भत्ता देने की बात कही गई थी, वह अभी तक नहीं मिला है। राज्य सरकार ने नक्सलियों के साथ मिलकर आगे राजनीति करने का फैसला किया है। यही कारण है कि जब से राज्य में नई सरकार आई है, नक्सलवाद फिर से सिर उठाने लगा है।’

जूनागढ़ (गुजरात)

‘पाकिस्तान से चलने वाली हर गोली का जवाब हम बम से देंगे’

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर 15 अप्रैल को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा। श्री शाह ने कहा कि कांग्रेस झूठ बोलती है और उसे दोहराती है। उन्होंने कहा कि गांधी को राफेल सौदे पर अपने बयान के लिए शीर्ष अदालत से नोटिस मिला है। उन्होंने जूनागढ़ लोकसभा क्षेत्र से पार्टी उम्मीदवार के लिए गिर सोमनाथ के कोदिनार में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘सुप्रीम कोर्ट ने प्रारंभिक तकनीकी आपत्ति पर (राफेल) मामले की सुनवाई की। सुप्रीम कोर्ट ने अपना आदेश पारित किया और राहुल बाबा कहने लगे कि शीर्ष अदालत ने राफेल मुद्दे पर सरकार को फटकार लगाई थी। हकीकत में ऐसा कुछ नहीं हुआ था।’

श्री शाह ने कहा, ‘अदालत ने केवल एक प्रारंभिक आपत्ति हटाने का काम किया था। मामला अभी भी चल रहा है और पहले भी सुना गया है, लेकिन उन्होंने (गांधी) बार-बार बोलना शुरू कर दिया। भाजपा के एक सांसद ने अवमानना नोटिस दिया और आज सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी किया है और राहुल गांधी को यह बताने के लिए कहा है कि उन्होंने क्या कहा था।’

भाजपा अध्यक्ष ने आरोप लगाया, ‘झूठ बोलना और उसे जोर से बोलना तथा उसे बार-बार कहना कांग्रेस पार्टी का स्वभाव बन गया है।’ उन्होंने रामपुर लोकसभा सीट से भाजपा उम्मीदवार जयाप्रदा के खिलाफ आपत्तिजनक बयान देने के लिए समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान पर भी निशाना साधा। श्री शाह ने कहा कि खान, सपा और उत्तर प्रदेश में उसकी सहयोगी बसपा को इस घिनौने बयान के लिए माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों के खिलाफ मुहिम चलाने के लिए विपक्षी दलों पर भी निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि, ‘कांग्रेस हार से डर गई है। पहले वे हार का कारण ईवीएम पर डालते थे। अब पहले चरण का चुनाव हो चुका है। उनका कहना है कि भाजपा ईवीएम के कारण जीतेगी जिससे पता चलता है कि कांग्रेस पार्टी ने हार स्वीकार कर ली है।’ श्री शाह ने कहा कि बालाकोट हवाई हमले के बाद कांग्रेस और पाकिस्तान शोक मना रहे थे।

उन्होंने कहा, ‘देश भर में युवा जब पटाखें जला रहे थे, मिठाइयां बांट रहे थे, शहीदों को श्रद्धांजलि दे रहे थे, दो जगहों पर शोक मनाया जा रहा था। एक पाकिस्तान में, जो रो रहा था और छाती पीट रहा था।’ उन्होंने कहा, और दूसरा कांग्रेस कार्यालय में शोक का माहौल था।’ बॉलीवुड की पुरानी फिल्म ‘सौदागर’ के गीत का हवाला देते हुए श्री शाह ने कहा, ‘राहुल बाबा आतंकवादियों के साथ ईलू-ईलू करते हैं, लेकिन यह भाजपा और नरेन्द्र मोदी की सरकार है। हमारी नीति स्पष्ट है। पाकिस्तान से चलने वाली हर गोली का जवाब हम बम से देंगे।’

वहीं दीसा में दूसरी रैली को संबोधित करते हुए श्री शाह ने महागठबंधन पर प्रहार किया। उन्होंने सवाल किया, ‘ऐसे चलेगी महागठबंधन की सरकार। (बीएसपी प्रमुख) मायावती सोमवार को प्रधानमंत्री बनेंगी। अखिलेश (सपा प्रमुख) मंगलवार को, शरद पवार (एनसीपी प्रमुख) बुधवार को, चन्द्रबाबू नायडू (टीडीपी प्रमुख) गुरुवार को, देवगौड़ा (जद(एस) नेता) शुक्रवार को, ममता बनर्जी (टीएमसी प्रमुख) शनिवार को और रविवार को छुट्टी होगी। क्या यह देश ऐसे चल सकता है!’

पश्चिमी महाराष्ट्र

‘कोई भी हमसे कश्मीर नहीं ले सकता’

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने 17 अप्रैल को यहां कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और जब तक भाजपा है, तब तक कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा बना रहेगा। श्री शाह ने यह टिप्पणी नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता श्री उमर अब्दुल्ला के हालिया सुझाव पर एक चुनावी रैली में की। अब्दुल्ला ने कश्मीर में अलग प्रधानमंत्री होने का सुझाव दिया था।

श्री शाह ने पश्चिमी महाराष्ट्र में एक रैली में कहा, “कोई भी हमसे कश्मीर नहीं ले सकता। जब तक भाजपा रहेगी, कश्मीर भारत का अभिन्न अंग बना रहेगा।” उन्होंने कहा, “हम भारत में कभी भी दो प्रधानमंत्री नहीं बनने देंगे।” साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस कश्मीर को भारत से अलग करना चाहती है।

श्री अब्दुल्ला की टिप्पणी पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने भी कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कई चुनावी रैलियों में कांग्रेस से अपने सहयोगी की टिप्पणी को स्पष्ट करने की मांग की थी। गौरतलब है कि हाल ही में नेशनल कांफ्रेंस के नेता श्री उमर अब्दुल्ला ने कहा था कि उनकी पार्टी जम्मू-कश्मीर की स्वायत्तता को बहाल करने का प्रयास करेगी जिसके तहत जम्मू-कश्मीर के लिये अलग ‘वज़ीर-ए-आज़म’ (प्रधानमंत्री) हो सकता है। इस बयान के लिए अब्दुल्ला की जमकर आलोचना भी हुई।

श्री शाह ने कहा, “भारत शिवाजी महाराज की भूमि है और इसकी सुरक्षा हम सबकी जिम्मेदारी है।” पाकिस्तान से पनपने वाले सीमा पार के आतंकवाद की ओर इशारा करते हुए श्री शाह ने कहा, “अगर वहां से एक गोली चलाई जाएगी तो भारत यहां से गोला फेंकेगा।” उन्होंने कहा कि भारत में घुसपैठ करने वाले आतंकवादियों को खोज-खोज कर मारा जाएगा। श्री शाह ने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को सुरक्षित रखने के लिए काम किया है। बालाकोट हवाई हमले के जरिए हमने अपने सैनिकों की शहादत का बदला लिया।”

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, “अब देश के सभी कोनों से ‘फिर एक बार मोदी सरकार का नारा सुना जा सकता है।” श्री शाह ने 2014 से पहले तक लगातार 15 सालों तक महाराष्ट्र में सत्ता में रही कांग्रेस-राकांपा की गठबंधन सरकार पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा, “कांग्रेस ने महाराष्ट्र को विकास की पटरी से उतार दिया था जबकि भाजपा राज्य को फिर से विकास के पथ पर लेकर आई।” उन्होंने कहा कि कांग्रेस की पांच पीढ़ियों ने देश पर शासन किया, लेकिन भारत के लिए कुछ नहीं किया। श्री शाह ने सवाल किया, “राहुल गांधी (कांग्रेस अध्यक्ष) और शरद पवार (राकांपा प्रमुख) ने भारत में गरीबों के लिए क्या किया है?”

बिलासपुर (छत्तीसगढ़)

‘मोदी सरकार ने लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने का काम किया’

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने 18 अप्रैल को बिलासपुर जिले के तखतपुर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस चुनाव में दो धड़े स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहे हैं। एक तरफ एनडीए के साथी हैं जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में है, तो दूसरी ओर ‘महामिलावट’ गठबंधन खड़ा है, जो राहुल बाबा एंड कंपनी का है। उन्होंने कहा, ‘मैं उनसे पूछता हूं कि यदि गलती से आपका गठबंधन आ गया तो आप का प्रधानमंत्री कौन बनेगा? उनके पास इसका जवाब नहीं है।’

श्री अमित शाह ने कहा कि पूछा जाता है कि मोदी सरकार ने इस पांच वर्ष के शासन में क्या किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने देश के भीतर 50 करोड़ लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने का काम किया है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि नरेंद्र मोदी की सरकार ने देश को सुरक्षित रखने का काम किया है। इससे पहले 10 साल तक सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह की यूपीए की सरकार थी।

इस दौरान पाकिस्तान से आए आतंकवादी जब चाहे तब देश में घुस जाते थे और जवानों का सिर काट लेते थे और उन्हें अपमानित करते थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार में आतंकवादियों ने जब पुलवामा पर हमला किया और 40 जवान शहीद हो गए, तब सबके मन में गुस्सा था। देश की सेना पहले सर्जिकल स्ट्राइक कर चुकी थी। पाकिस्तान की सेना ने जमीन पर टैंक लगा दिया तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वायु सेना को आदेश दिया और वायु सेना ने पाकिस्तान के घर में घुसकर बालाकोट में आतंकवादियों के अड्डे को तहस-नहस कर दिया। घटना होने के बाद दो जगह पर मातम छा गया एक पाकिस्तान में और दूसरा राहुल बाबा एंड कंपनी के कार्यालय में।

श्री अमित शाह ने कहा, ‘पाकिस्तान को तकलीफ हुई वह स्वाभाविक था, लेकिन आपको क्यों तकलीफ हुई, क्या वह आप के चचेरे भाई लगते थे। वहीं सैम पित्रोदा ने कहा था उनसे बातचीत करनी चाहिए। जो 40 जवानों को शहीद करे उससे बातचीत करना चाहिए कि बम गिराना चाहिए? भारतीय जनता पार्टी की सरकार आतंकवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाएगी। श्री शाह ने कहा कि यहां नरेंद्र मोदी की सरकार है। इस सरकार में ईंट का जवाब पत्थर से दिया जाएगा। पाकिस्तान को कोई जवाब दे सकता है तो केवल और केवल एक व्यक्ति दे सकता है, हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही दे सकते हैं।
भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि हम एनआरसी लेकर आए तो कांग्रेस पार्टी ने विरोध किया कि वह कहां जाएंगे, क्या खाएंगे। आपको उनकी चिंता है, हमारे देश के जवान मारे जाते हैं उनकी चिंता नहीं है। उन्होंने मतदाताओं से कहा कि आप श्री नरेंद्र मोदी को एक बार फिर से प्रधानमंत्री बनाओ हम कश्मीर से कन्याकुमारी तक और असम से गुजरात तक घुसपैठियों को चुन-चुन कर निकालेंगे। श्री अमित शाह ने इस दौरान दंतेवाड़ा की नक्सली घटना में मृत विधायक भीमा मंडावी और चार अन्य पुलिस कर्मियों को श्रद्धांजलि दी तथा राज्य की कांग्रेस की सरकार पर जमकर हमला बोला।

वलसाड और छोटा उदेपुर (गुजरात)
‘कांग्रेस ने गरीबों के लिए क्या किया?’

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने 19 अप्रैल को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को भाजपा के युवा मोर्च के अध्यक्ष के साथ पांच दशकों के कांग्रेस के शासनकाल में गरीबों के लिए किए गए कार्यों पर बहस करने की चुनौती दी।

श्री शाह ने एक रैली को संबोधित करते हुए नरेंद्र मोदी सरकार की उपलब्धियां गिनाईं और कांग्रेस पर भाजपा शासित गुजरात के विकास में बाधाएं पैदा करने का आरोप लगाया। श्री शाह ने कहा, ‘राहुल बाबा गरीबों का राग अलापते हैं। कांग्रेस एक बार फिर ‘गरीबी हटाओ’ का नारा दे रही है। पांच पुश्तों और 55 वर्ष तक केवल आपके परिवार ने ही देश पर शासन किया।’ उन्होंने कहा कि वडोदरा के किसी चौराहे पर आइए और बताइए कि आपने गरीबों के लिए क्या किया। हमारे युवा मोर्चे के अध्यक्ष आपको जवाब देंगे।

उन्होंने कहा, कांग्रेस ने गुजरात के विकास में अड़चनें पैदा कीं और 2002 के सांप्रदायिक दंगों के बाद राज्य को बदनाम किया।

भाजपा अध्यक्ष अमित श्री शाह ने कहा, मौजूदा चुनाव में विकास से भी बढ़कर राष्ट्रीय सुरक्षा मुख्य चुनावी मुद्दा है। उन्होंने गुजरात के वलसाड के मालनपाडा और छोटा उदेपुर के बोडेली में चुनावी सभा में यह बात कही।

महाराष्ट्र

‘देश सुरक्षित हाथों में है’

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने 18 अप्रैल को कहा कि पिछले पांच वर्षों में देश को सुरक्षित रखने का काम मोदी सरकार ने किया है। आतंकवादियों और पाकिस्तान को करारा जवाब देते हुए देश में सुरक्षा का माहौल भी बनाया है। पिछले 55 वर्षों में कांग्रेस की पांच पीढ़ियों द्वारा जो नहीं किया गया, वह कार्य मोदी सरकार ने 55 माह में कर दिखाया। अबकी बार एक बार फिर मोदी सरकार बनेगी तथा हम एनआरसी को लागू कर देश के हर कोने में छिपे बैठे घुसपैठियों को निकाल बाहर करेंगे। इसलिए जालना की जनता अपने लोकप्रिय सांसद भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष रावसाहब दानवे को भारी मतों से जिताए, ताकि इस बार भाजपा उन्हें केंद्र में बड़ा पद दे सके।

श्री शाह भाजपा-शिवसेना-रिपाइं-रयत क्रांति संगठन महागठबंधन के उम्मीदवार सांसद रावसाहब दानवे के प्रचार के लिए आमसभा को संबोधित कर रहे थे।

श्री अमित शाह ने मंच से ललकारते हुए आतंकवादी और पाकिस्तानियों को चेताया कि देश सुरक्षित हाथों में है तथा आने वाला समय भी मोदी सरकार का ही होगा। जिस तरह आतंकवादियों और पाकिस्तानियों को उनकी जगह दिखा दी गई है, उसी तरह एनआरसी को लागू कर देश के कोने-कोने में फैले घुसपैठियों को निकाल बाहर किया जाएगा। 10 वर्ष सत्ता में रहने के बावजूद सोनिया-मनमोहन सरकार ने आतंकवाद के विरोध में कोई कदम नहीं उठाया, लेकिन मोदी सरकार इस कार्य को करने में पूरी तरह सक्षम रही।

उन्होंने कहा कि जब पुलवामा में पाकिस्तानी आतंकवादियों ने हमला कर 40 जवानों को शहीद कर दिया था़, उस समय पाकिस्तान ने सभी सीमाएं सील कर दी थीं। देश भर में आक्रोश था, लेकिन मोदी सरकार डरने वालों में से नहीं, 13 वें दिन ही एयर स्ट्राइक कर बालाकोट में बम धमाके किए गए तथा आतंकवादियों को नेस्तनाबूद कर दिया गया। ऐसे में केवल पूरा देश खुशी मना रहा था। केवल दो जगह मातम का माहौल था। एक तरफ पाकिस्तान में लोग छातियां पीट रहे थे तथा दूसरी तरफ देश में राहुल बाबा एंड कंपनी के कार्यालय में दु:ख फैला था। इन लोगों का कहना था कि आतंकवादियों को मारने के बजाए चर्चा की जाए। हमने दुनिया को दिखा दिया कि यदि सीमा के उस पार से गोली आएगी तो यहां से गोले दागे जाएंगे। कांग्रेस भले ही पाकिस्तान से कितना भी ईलू-ईलू कर ले, भाजपा आतंकवाद और पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम है।

उन्होंने कहा कि हम पिछले 10 दिनों से राहुल बाबा और शरद पवार से पूछ रहे हैं कि क्या उन्हें देश में दो प्रधानमंत्री मंजूर हैं? लेकिन वे केवल इसलिए कतरा रहे हैं कि उन्हें अपने वोट बैंक की फिक्र है। श्री अमित शाह ने कहा कि अबकी बार फिर मोदी सरकार बनेगी, लेकिन मैं यह बता दूं कि भाजपा भले सत्ता में रहे या ना रहे, कश्मीर को भारत से अलग नहीं होने दिया जाएगा। कश्मीर हिंदुस्तान का अभिन्न अंग है और रहेगा।

श्री अमित शाह ने कहा कि जब वे हेलीकॉप्टर से जालना आ रहे थे, तब उन्होंने खेतों में जलयुक्त शिवार योजना के तहत किए गए कामों को देखा तथा इन शिवारों में जमा पानी को भी देखा। यह सब केवल 6 हजार करोड़ रुपए खर्च कर संभव हुआ है। शरद राव अब यह बताएं कि सिंचाई के लिए 72 हजार करोड़ रुपए कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस सरकार ने खर्च किए थे, वे पैसे कहां गए।