सौर ऊर्जा के माध्‍यम से भारतीय रेल को परिवहन का हरित माध्‍यम बनाने की तैयारी


प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी के निर्देशानुसार अपनी ऊर्जा जरूरतों के लिए आत्मनिर्भर होने के प्रयास तथा अक्षय ऊर्जा (आरई) परियोजनाओं के लिए अपनी खाली भूमि का उपयोग करने के साथ ही भारतीय रेल एक नए दौर में प्रवेश करने जा रही है।    

  • सौर ऊर्जा के उपयोग से रेलवे को जीरो कार्बन उत्‍सर्जन वाला जन परिवहन माध्‍यम बनाने का लक्ष्‍य रखा गया है।
  • भारतीय रेलवे की ऊर्जा मांग को सौर परियोजनाओं द्वारा पूरा किया जाएगा, जिससे यह पहला ऐसा जन परिवहन माध्‍यम बन जाएगा जो पूरी तरह से ऊर्जा के मामले में आत्मनिर्भर होगा। इससे भारतीय रेलवे को परिवहन का हरित माध्‍यम बनाने के साथ ही पूरी तरह से ‘आत्मनिर्भर’ भी बनाया जा सकेगा।
  • भारतीय रेलवे ने एमसीएफ रायबरेली (यूपी) में स्थापित 3 मेगावाट के सौर संयंत्र जैसे विभिन्न सौर परियोजनाओं से ऊर्जा खरीद शुरू की है। भारतीय रेलवे के विभिन्न स्टेशनों और भवनों पर लगभग 100 मेगावाट वाले सौर पैनल पहले से ही चालू हो चुके हैं।