सब राम के हैं और सबमें राम हैं: मोहन भागवत


राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक श्री मोहन भागवत ने अयोध्या में पांच अगस्त को राम मंदिर के शिलान्यास के बाद कहा कि आज हमें तीस साल की मेहनत का फल मिला है। मंदिर निर्माण के लिए हजारों लोगों ने बलिदान दिया। आज हमारा संकल्प पूरा हो गया है। अब अयोध्या की धरती पर भव्य राम मंदिर बनेगा।

  • उन्होंने कहा कि पूरे देश में देख रहा हूं कि आनंद की लहर है, सदियों की आस पूरी होने का आनंद है। लेकिन सबसे बड़ा आनंद है भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जिस आत्मविश्वास की आवश्यकता थी और जिस आत्म-भान की आवश्यकता थी, उसका साकार अधिष्ठान बनने का शुभारंभ आज हो रहा है।
  • श्री भागवत ने कहा कि हम ‘वसुधैव कुटुंबकम’ में विश्वास रखने वाले लोग हैं और यह एक नए भारत की शुरुआत है। पुरुषार्थ का भाव हमारे रग-रग में है और भगवान राम का उदाहरण है। उन्होंने कहा कि सब राम के हैं और सबमें राम हैं। यह सभी भारतवासियों के लिए है। इसमें कोई अपवाद नहीं है। श्री भागवत ने कहा कि हिंदू धर्म सबकी उन्नति करने वाला और सबको समान मानने वाला धर्म है।